डीएम की चौखट से न्याय न मिलने पर पीड़िता बैठी धरने पर

0
112

रायबरेली: भले ही सूबे के तेज तर्रार मुखिया मंहत योगी आदित्य नाथ कानून व्यवस्था को लेकर बार बार यूपी की पुलिस महकमे को हिदायत दे कर कानून का राज स्थापित करने की बात कर रहे हो लेकिन विडम्बना तो तब हो जाती हैं जब कानून का राज स्थापित करने वाले ही कानून का माखौल उडा़ने लगे जनपद रायबरेली मे कुछ एेसा ही देखने को मिल रहा है| जहाँ पुलिस अपराध पर नियंत्रण तथा अपराधियों को पकड़ने के बजाय जमीनो पर नजर गडा़ कर काम करने लगी है|

आलम यह है कि पुलिस को पैसा दो और जहां चाहो मनचाहा जमीन पर कब्जा करो, जबकि कोर्ट के निर्देशानुशार जमीन के मामलो मे पुलिस कोई हस्ताक्षेप नही कर सकती हैं| कुछ एेसा ही मामला हरचन्दपुर थाना छेत्र के छतैया का प्रकाश मे आया है| जहाँ आरोप है कि स्थानीय थाने मे तैनात सिपाही व होम गार्ड ने मोटी रकम लेकर एक महिला रामरती पत्नी दर्शन पासी की जमीन पर जबरन गांव के सूर्य बली पुत्र देवतादीन की दीवार खड़ी करवाना शुरु करा दिया| जब इसकी शिकायत थाने पर की गई तो मौके पर पहुंचा उक्त सिपाही ने पहले दो हजार की मांग की न देने पर पुन: दीवार खड़ा करवाना शुरु करवा दिया|

थाने से न्याय न मिलने पर पीडिता पुलिस अधीक्षक, जिला अधिकारी समेत अपर जिला अधिकारी की चौखट पर पहुँची लेकिन उसे न्याय न मिल सका आखिरकार उसे कम्युनिस्ट माक्सर्वादी पार्टी के बैनर तले हरचन्दपुर के पशु बजार मे धरने पर बैठने पडा़ जहां पुलिस प्रशासन के खिलाफ मुर्दा बाद के नारे लगाये गये| इस तरह के मामले रोज जिला पुलिस मुखिया के पास पहुंच रहे हैं लेकिन माना जा रहा है कि थाने की पुलिस कप्तान को गुमराह कर गलत रिपोर्ट बताती है, जिसका नतीजा है कि जिले की पुलिस योगी सरकार की फरमानो पर पानी फेर रही है|

रिपोर्ट- अनुज मौर्य

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY