बीएसए व डीआईओएस पायेे गये दोषी, लगा अर्थदण्ड

0
299


रायबरेली (ब्यूरो) लखनऊ मण्डल के सूचना आयुक्त अरविन्द सिंह विष्ट ने 02 दिनों में 88 जन शिकायतों के निस्तारण में 10 मामलो में अर्थदण्ड लगाया। सूचना आयुक्त ने बार-बार अधिकारियों को सूचना समय पर न देने, अपर्याप्त सूचना देने तथा गलत सूचना देने पर हिदायत दी। उन्होने कुछ अधिकारियों व कर्मचारियों पर नाराजगी भी व्यक्त की। साथ ही जनहितार्थ कार्यवाही न करने पर उन्होने खेद व्यक्त करते हुए अफसोस जताया।

सूचना आयुक्त ने कलेक्ट्रेट स्थित बचत भवन के सभागार में जन सूचनाई के द्वौरान अधिकारियों से सुस्पष्ट, सटीक एवं समय पर सूचना उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। उन्होने कहा कि न्यायायिक कार्य एवं जनहित सर्वोपरि है। सरकार द्वारा समय पर जन सुनवाई, निस्तारित करने पर बहुत जोर दिया जा रहा है। उन्होने बताया कि जन सुनवाई के मामलों में यदि कोई भी अधिकारी लापरवाही करता है तो उसके विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जायेगी।

बीएसए गुरू शरण निरंजन पर रू0 25000/- अर्थदण्ड लगा। शिक्षक अनिल सिंह का इन्क्रीमेंट 4 सालो से नहीं दिया। शिक्षक की दोनो किड़नी खराब होने एवं आर्थिक तंगी की बात उनकी पत्नी प्रर्मिला सिंह ने रखी। इसी तरह सीरियल नं0 44 में वर्तमान बीएसए राजेन्द्र सिंह पर अर्थदण्ड रू0 25000/- लगा। इसके वादी इन्द्रपाल सिंह हैं। इस मामले में बाउण्ड्रीवाल पुरानी को मरम्मत करके नई बाउंड्रीवाल का पैसा वसूला गया। सूचना मांगी जाने पर कोई प्र्रमाण नहीं मिला। शोभा कुमारी जिला सम्यन्वक अध्यापक पर अर्थदण्ड, राजेन्द्र सिंह सीरियल नम्बर 30 जिसमें वादी पवन कुमार है। सीरियल नं0 45 खण्ड शिक्षा अधिकारी तथा बीएसए पर दण्ड इसमें राधा कृष्ण यादव वादी है। जिला विद्यालय निरीक्षक राकेश कुमार श्रीवास्तव पर दण्ड तथा वादी मीना पाण्डेय है। डीआईओएस-वादी पवन कुमार इनके 02 प्रकरणों में दण्ड इन सभी मामलों में रू0 25-25 हजार का जुर्माना लगाया गया है।

रिपोर्ट – राजेश यादव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here