आधार कार्ड ना बनने से भटक रहे लोग

0
175


रायबरेली (ब्यूरो) एक तरफ जीएसटी की हड़ताल वहीं दुसरी तरफ जिले के सभी आधार केन्द्रो में एक सप्ताह से ताला लगने से आम लोगों का जनजीवन काफी अस्त-व्यस्त हो गया है। विदित हो कि 28 जुलाई को जिलाधिकारी अभय सिंह को जन सेवा फाउंडेशन के तत्वाधान में ज्ञापन सौंप कर आधार आपरेटरों से एक लाख रुपए की अग्रिम बैंक गारंटी के फैसले को वापस लेने की सिफारिश की थी, किन्तु ऐसा नहीं हुआ तो सभी आधार आपरेटरों ने पंजीकरण का कार्य बन्द कर दिया और कलेक्ट्रेट परिसर में अनिश्चित कालीन धरने पर बैठ गए।

जन सेवा फाउंडेशन जिलाध्यक्ष नीरज सिंह ने बताया कि अब जब पूरे भारत में 97 प्रतिशत लोगों का आधार पंजीकरण पूर्ण हो चुका है तो आधार आपरेटरों पर जबरन अग्रिम बैंक गारंटी का तुगलकी फरमान जारी हो गया। जो किसी भी दषा में उचित नहीं है। जिला महामंत्री सौरभ सिंह ने आधार अथारिटी आफ इण्डिया पर पक्षपात का आरोप लगाया कहा कि अब जब कार्य पूर्ण हो चुका है तो इन्हे याद आया है कि आधार आपरेटर किसी तरह से दोष उत्पन्न कर सकता है, अब यह जिम्मेदारी पोस्ट आफिस को दी जाएगी, आधार अथारिटी आफ इण्डिया को कौन समझाए कि जो कर्मचारी डाक से आए आधार कार्ड को आवेदक के घर तक नही पहुंचा पाता वह कैसे इस कार्य को कर पाएगा, शोषण की इस नीति से देष भर में एक साथ 250000 से अधिक आधार आपरेटर बेरोजगार हो जाएंगे।

डलमऊ क्षेत्र अध्यक्ष महेन्द्र कुमार ने आधार अथरिटी आफ इण्डिया के दोनो फैसलो को अत्यन्त निन्दनीय बताया, कहा कि एक तरफ सरकार हम केन्द्र संचालकों को डिजिटल क्रांतिकारी कहती है दूसरी तरफ रोजगार खत्म करने का षड़यंत्र रच रही है | इस नीति से सभी केन्द्र संचालक बेहद रोष में हैं। जिला सचिव ब्रजेष सिंह ने बताया कि फिलहाल जिले में आधार आपरेटरों की अनिष्चित कालीन हड़ताल से लोगों को इधर-उधर भटकना पड़ रहा है। आधार केन्द्र बन्द होने से बैंक के भी कार्य प्रभावित हो रहे है। लोगों की भीड़ जमा हो रही है, जिले के मुख्य आधार केन्द्र दरियापुर, घुरवारा, जगतपुर, बेलाभेला, मुराई का बाग, डलमऊ, परषदेपुर, सलोन, धरई, लालगंज, कुंसा, घंटाघर, उंचाहार, बछरावां पर कार्य बन्द है।

रिपोर्ट – अनुज मौर्य

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here