गर्मी से मिली लोगों को राहत, वहीं किसानों के चेहरे खिले

0
103

रायबरेली (ब्यूरो) मानसून ने दस्तक दे दी है। भीषण गर्मी और उमस से बेहाल लोगों को रविवार सुबह से ही बरसात ने राहत दी है। वहीं अलग-अलग क्षेत्रों में में भी बरसात हुई जिससे फसल बुआई को लेकर चर्तित किसानों के चेहरों पर मुस्कान लौटी है। कृषि वैज्ञानिकों का कहना है कि धान के साथ ही दलहन और तिलहन की फसलों की बुआई में किसानों को सींच नहीं करानी पड़ेगी।

शहर में पड़ रही भीषण गर्मी से आम जनमानस परेशान हो रखा था लेकिन रविवार सुबह से ही बरसात हो जाने से लोगो ने राहत की सांस ली | युवाओं और बच्चों ने भीगकर बारिश का मजा लिया। वैसे तो किसान खुश नजर आए। धान उत्पादक इस बरसात को रोपाई के लिए शुभ संकेत तो मान रहे हैं लेकिन वह इसे अपर्याप्त बता रहे किसानों का कहना है कि दो-तीन दिन लगातार इसी तरह की बारिश हो जाए तो धान की रोपाई समय पर हो जाएगी| सींच के लिए नलकूपों या नहरों का सहारा नहीं लेना पड़ेगा। कृषि विज्ञान के वैज्ञानिक ने बताया कि इस बरसात से भूमि में नमी आ जाएगी, इससे दलहन और तिलहन के लिए खेतों का पलेवा नहीं करना पड़ेगा। अरहर, मक्का, तिल आदि की बुआई के लिए किसानों को फायदा होगा।

ग्रामीण क्षेत्रों में समय से बिजली न आने से किसान चिंतित हो गये थे, लेकिन बरसात के होने पर थोड़ी किसानों को राहत मिली जरूर है पर पानी की कमी से किसान रोपाई नहीं कर पाते हैं, लेकिन इस बार मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि अबकी पर्याप्त मात्रा में बरसात होगी जिससे किसानों को कोई दिक्कत नहीं आयेगी |

रिपोर्ट – अनुज मौर्य

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY