कड़ा धाम के गर्धभ मेले में खरीदारों की उमड़ी भीड़, तीन दिवसीय गर्धभ मेले में देश के कोने-कोने से आए लोग

0
188
प्रतीकात्मक

कौशाम्बी(ब्यूरो)- शक्तिपीठ कड़ा धाम में तीन दिवसीय गर्धभ मेले का शुभारंभ रविवार से हो गया। मेले का समापन मंगलवार को होगा। गधों की बिक्री के लिए देश के कोने-कोने से क्रेता और विक्रेता आए हैं। गधे यहां के एक-एक लाख रुपए की कीमत में बिकते हैं।

शक्तिपीठ कड़ा धाम में आदिकाल से गर्धभ मेला लगता आया है। माता शीतला का वाहन भी गधा है। इसलिए मेले का खास महत्व होता है। इसे गर्दभ अष्टमी के नाम से भी जाना जाता है। मेले में प्रदेश के कई जिलों के अलावा राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, बिहार, छत्तीसगढ़ राज्य के व्यापारी व खरीदार आते हैं। यहां आने वाले गधों की कीमत लाखों रुपए होती हैं। तीर्थ पुरोहित सुदामा लाल पंडा मेले का महत्वाताते हुए कहा कि माता शीतला की दराार में माथा टेकने केााद मेले में जाकर गधों को दूब(घास), दूध और मिष्ठान खिलाता है। उसके परिवार के सभी कष्टों का नाश होता है। घर में अन्न, धन की कमी नहीं होती है। परिवार में हमेशा शीतलताानी रहती है। फतेहपुर के राम विशाल, वाराणसी के सराफउद्दीन, सुल्तानपुर के गोपीनाथ निर्मल नेाताया कि वह मेले में कई वर्षों से आते हैं। इनके पहले उनके परिवार के लोग आते थे।

रिपोर्ट- डॉ. आर. आर. पाण्डेय
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here