उबड़-खाबड़ गड्ढे वाली सड़कों को लेकर वाहन चालक समझ जाते हैं बनारस आ गया

0
36


वाराणसी (ब्यूरो) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र बाबा भोले नाथ की नगरी काशी में आने-जाने वाले पर्यटक नागरिक वाहन चालक राहगीर गड्ढा युक्त सड़कों से जहां परेशान हैं, वहीं उनके समक्ष इन सड़कों को लेकर पूरे शहर और आसपास इलाकों में जाम की समस्या बराबर बनी रहती है उबड़-खाबड़ गड्ढे वाले सड़कों को लेकर ट्रैफिक पुलिस द्वारा रोज नए नए ट्रैफिक प्लान तैयार किए जाते हैं | लेकिन इसका भी असर जनमानस को नहीं दिखाई पड़ता है, अगर कहीं 2 घंटे मूसलाधार बारिश हो जाए तो बनारस की हर गलियां और रास्ते तालाब में तब्दील हो जाती हैं |

पानी निकासी का भी कोई समाधान जल्दी नहीं निकलता अगर कहीं मरीज लेकर एंबुलेंस BHU या अन्य जगहों पर जाने की कोशिश करें तो उसे रास्ते में ही फंस जाना पड़ता है मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने 15 जून तक सभी सड़कों को चुस्त दुरुस्त करने का निर्देश जारी किया था लेकिन उनका भी फरमान महज फरमान ही रह गया | अब तो आलम यह है कि किसी वाहन चालक को बताने की जरूरत नहीं वह खुद समझ जाते हैं | बनारस आ गया क्योंकि बॉर्डर आते ही लोग समझ जाते हैं कि उबड़-खाबड़ रास्ते का मतलब बनारस आ गया

रिपोर्ट – रविंद्रनाथ सिंह

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY