किसानों का शोषण करने वालों की जगह जेल में होगी- जिलाधिकारी

0
115

मैनपुरी(ब्युरो) – अन्नदाता किसान का शोषण किसी भी स्तर पर बर्दाश्त नहीं किया जायेगा, किसानो को उनकी उपज का वाजिब मूल्य दिलाने के लिए प्रदेश सरकार बचनबद्ध है। यदि किसानो को उनकी उपज का वाजिब मूल्य नहीं मिला और किसी आढ़तिये द्वारा निर्धारित समर्थन मूल्य 1625 प्रति कुन्टल की दर से कम में गेहूं खरीदा तो दोषी के विरूद्ध आवश्यक वस्तु अधिनियम की धारा 3/7 के तहत प्राथमिकी दर्ज कराकर जेल भेजा जायेगा। साथ ही निर्धारित समर्थन मूल्य से कम दर पर खरीद करने वाले आढ़तियो के लाइसेन्स निरस्त होेगें। किसानो का गेहूं 15 जून 17 तक खरीदा जायेगा। किसानो से 10 रू. प्रति कुन्टल की दर से उतराई,छनाई नकद लिया जायेगा,खरीदे गये गेहूं का भुगतान आरटीजीएस के माध्यम से तत्काल होगो।

उक्त निर्देश जिलाधिकारी चन्द्र पाल सिंह ने देते हुए सभी उप जिलाधिकारियों, तहसीलदारों, खण्ड विकास अधिकारियों से कहा कि वह अपने – अपने क्षे़त्र मे स्थापित गेहूं क्रय केद्रों का नियमित भ्रमण करें और सुनिश्चित किया जायें कि किसी भी किसान को अपना गेहूं बेचने मे कठिनाई न हो। उन्होने बताया कि जनपद का गेहूं क्रय लक्ष्य 540000 कुन्टल निर्धारित किया गया है, गेहूं खरीदने हेतु जनपद में 56 क्रय केन्द स्थापित किये गये हैं। सभी क्रय केन्द्रों पर रविवार एवं राजपत्रित अवकाश को छोड़कर प्रतिदिन खरीद होगी। उन्होने साफ तौर पर कहा कि गेहूं क्रय में यदि किसी केन्द्र प्रभारी द्वारा किसी भी किसान का शोषण किया गया या उसे समय से भुगतान नहीं किया गया तो उसकी जगह जेल में होगी। केन्द्रों पर न तो बोरों की कमी है न ही धन की, इसलिए कोई भी बहाना नहीं होगा, सिर्फ और सिर्फ किसान का गेंहूं पूरी ईमानदारी के साथ खरीदना है। यदि किसी के मन में जरा भी शंका है तो वह दूर करे, लापरवाही करने पर दण्ड अवश्य मिलेगा।

जिला प्रशासन की सर्वोच्च प्राथमिकता है कि जनपद के निर्धारित गेहूं खरीद के लक्ष्य की शत-प्रतिशत पूर्ति करना है। श्री सिह ने कहा कि जिला प्रशासन सभी किसानो को गेहूं का समर्थन मूल्य दिलाने के लिए कटिबद्ध है उन्होने किसानो से कहा कि वह अपना गेहूं 1625 रू. प्रति कुन्टल से कम दर पर कदापि न बेंचे , यदि कोई आढ़तिया इससे कम दर पर खरीदे तो संज्ञान में लाये उसके विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही की जायेगी। उन्होने बताया कि गेहूं क्रय हेतु खाद्य विभाग के 07, पीसीएफ के 42, यू.पीस्टेट एगो 03, कर्मचारी कल्याण निगम के 02 एवं भारतीय खाद्य निगम के 02 केन्द्र बनाये गये है। उन्होने कहा है कि यदि किसी किसान को गेहूं विक्रय के संबंध में कोई समस्या हो तो अपनी शिकायत जिला खाद्य विपणन अधिकारी के मोबाइल नं0 7839564942, नोडल अधिकारी/अपर जिलाधिकारी के मोबाइल नं0 9454417582 पर दर्ज करा सकते है।

रिपोर्ट- दीपक शर्मा
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY