पीलिया से ग्रस्त नवजातों को उपचार के लिए अब दूसरे जिलों का रुख नहीं करना पड़ेगा

0
80

मैनपुरी विशेषज्ञ चिकित्सकों की कमी से जूझ रहे महिला अस्पताल में फिलहाल एक राहत भरी खबर आई है। पीलिया से ग्रस्त नवजातों को उपचार के लिए अब दूसरे जिलों का रुख नहीं करना पड़ेगा। अस्पताल में ही उपलब्ध अत्याधुनिक फोटोथैरेपी मशीन की मदद से नवजात की बीमारी का उपचार संभव होगा। नवजातों की विशेष देखभाल हो सकेए इसके लिए महिला अस्पताल के एसएनसीयू कक्ष में अत्याधुनिक मशीनों की सुविधा मुहैया कराई गई है।
महिला अस्पताल में विशेषज्ञ चिकित्सकों की कई सालों से कमी बनी हुई है। स्टाफ नर्सों के सहारे ही सुरक्षित प्रसव कराए जाते हैं। जन्म लेने वाले अधिकांश नवजातों में पीलिया के लक्षण पाए जाते हैं। कुछ शिशुओं में पीलिया का स्तर काफी बढ़ा होता है। अब से पहले ऐसे सभी नवजातों को उपचार के लिए आगरा या फिर सैफई के लिए रेफर कर दिया जाता था। ज्यादातर अभिभावक शिशुओं का निजी अस्पतालों में उपचार कराते थे। जिसके लिए उन्हें काफी रुपया खर्च करना पड़ता था। लेकिनए अब शिशुओं की ¨जदगी पीलिया की वजह से खतरे में नहीं पडे़गी। महिला अस्पताल के एसएनसीयू ;सिक न्यू बोर्न केयर यूनिटद्ध में शिशुओं के उपचार के लिए अत्याधुनिक मशीनें उपलब्ध कराई गई हैं। यूनिट में पीलिया से ग्रसित बच्चे के उपचार के लिए इंफेंट एलईडी फोटोथेरेपी मशीन की व्यवस्था कराई गई है। पीलिया की शिकायत मिलने पर बच्चे को मशीन की मदद से अस्पताल में ही पूरी तरह से निशुल्क उपचार दिया जा रहा है।
रिपोर्ट- दीपक शर्मा

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY