डोकलाम मामले पर चीन की धमकी- तत्काल पीछे हटे भारत बर्दाश्त करने की सीमा हो रही है समाप्त

0
78


नई दिल्ली – डोकलाम पर चीन ने भारत को धमकी देते हुए कहा है कि भारत तत्काल पीछे हटे, भारत बर्दाश्त करने की सीमा समाप्त हो रही है| गौरतलब है कि भारत की तरफ से वैश्विक शांति की पेशकश को हमेशा से ही ठुकराया ही गया है| भारत कितने भी सफ़ेद कबूतर उड़ाता रहे लेकिन पडोसी देश इसे हर बार भारत की कमजोरी ही समझने की गुस्ताखी करते रहते है | धोखे से भारत पर आक्रमण करने वाले चीन की भी आजकल यही आदत बनी हुई है | चीन आये दिन भारत को युद्ध की धमकी दे रहा है जबकि हिन्दुस्तानी सरकार चीन के साथ अपने हर एक विवाद को बातचीत के साथ सुलझाने के प्रयास में जुटी हुई है|

ताजा खबर के अनुसार बताया जा है कि डोकलाम मसले पर भारत की शांति की तमाम कोशिशें बेकार होती दिखाई पड़ रही है क्योंकि चीन ने एक बार फिर से भारतीय सेना को डोकलाम से पीछे हट जाने की धमकी दी है |

तत्काल पीछे हटे भारत बर्दाश्त करने की सीमा हो रही है समाप्त-
बता दें कि आज एक बयान में चीनी सेना की तरफ से कहा गया है कि संयम की एक सीमा होती है जो समाप्त हो रही है | अब भारत को तत्काल पीछे हट जाना चाहिए | आपको यह भी बताते चले कि चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता और पीएलए के कर्नल रेन गुओकियांग की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि चीन ने गुडविल दिखाते हुए इस मामले पर अभी कूटनीतिक हल का रास्ता अपनाया है लेकिन कूटनैतिक बातचीत की एक समय सीमा होती है और अब वह समाप्त हो रही है |

चीनी रक्षा मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि भारत यदि यह सोच रहा है कि देरी करने से समस्या का समाधान हो जाएगा तो यह संभव नहीं है | चीन ने एक बार फिर से भारत को धमकाते हुए कहा है कि चीन की जमीन को दुनिया का कोई भी देश नहीं ले सकता है, चीन अपने भूभाग और संप्रभुता की रक्षा के लिए पूरी तरह से सक्षम है |

गौरतलब है कि पिछले तक़रीबन 2 महीने के आस-पास वक्त से डोकलाम में चीनी, भूटानी और भारतीय सेनायें आमने सामने डटी हुई है | इस बेहद महत्ववपूर्ण जगह पर लगातार तनाव जारी है | भारतीय सेना चीन को टक्कर देने के लिए यहाँ से हिलने का नाम नहीं ले रही है | इधर भारत इस मामले को बातचीत के जरिये सुलझाने का पूरा प्रयास कर रहा है |

बता दें कि कल संसद में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने अपने बयान में कहा है कि सेना हमेशा युद्ध के लिए तैयार रहती है लेकिन युद्ध से किसी भी समस्या का समाधान नहीं हो सकता है | हम लगातार चीन के साथ बातचीत कर इस समस्या का समाधान निकालने की कोशिश कर रहे है | हमारी सेनायें युद्ध के लिए हमेशा तैयार रहती है |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY