दीपावली को यादगार बनाने के लिए पटाखों के बदले किया गया पौधरोपण

0
71

मुरलीछपरा/बलिया (ब्यूरो) -: माननीय सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश को कि दीपावली पर पटाखे न जलाए जाय, को सरकारी अमला माने या न माने ज्यादातर अभिभावक उस गाइटलाइन का अनुशरण करते हुए अपने बच्चों को दीवाली के दिन पटाखों से दूर रखे और पटाखों के स्थान पर अन्य कार्यक्रम भी आयोजित भी किए। ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादातर लोग पौधरोपण पर विशेष ध्यान दिए। वहीं कुछ विशिष्ट लोगों द्वारा एक दूसरे को तुलसी के पौधे भी भेंट स्वरूप प्रदान किया गया।

लोगों का मानना है कि अपने बच्चों को पटाखों से दूर रखने के साथ ही कम से कम एक पौधरोपण किया गया। भले ही वह दरवाजे पर ही क्यों न हो। इसी क्रम में शिवपुर निवासी मुकेश कुमार व नीतेश कुमार ने गोपालपुर में 51 छायादार, फलदार पौधे रोपित किए। उन लोगों का मानना था कि इस पर्व पर पटाखों के जगह पौधरोपण ही करके हर्षोल्लास के साथ दीपावली का पर्व मनाया जाय। वहीं दूसरी तरफ बाजारों में भी ज्यादातर मिट्टी के दीए की बिक्री ज्यादा रही। ज्दायातर लोग बिजली के चाइनीज सामानों मोमबत्ती से दूर ही रहे।  कुम्हार व्यवसायियों का भी मानना था कि इस वर्ष हर वर्ष के ज्यादा मिट्टी के दीयों की बिक्री हुई। जो भी आता था 50-100 की संख्या में दीए लेकर जाता था। अगर इसी चरह चलता रहा तो हम लोगों का व्यवसाय अस्तित्व में आ जाएगाl

रिपोर्ट विद्याभूषण चौबे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here