पुलिस ने पकड़ा गोवंश व गोमांश, आरोपी फरार

0
38

रायबरेली(ब्यूरो)- सलोन कस्बे में चोरी छिपे चल रही गोकशी कि घटना पर सख्त पुलिस ने कोतवाली प्रभारी के कुशल निर्देशन में भारी पुलिस बल के साथ छापेमारी करते हुए तीन अदद जीवित गोवंश और लगभग तीन कुंतल गोमांश बरामद किया है। जब कि पुलिस के आने की भनक लगते ही घटना में लिप्त आरोपी चकमा देकर भागने में कामयाब रहे।

सूचना पर पहुंचे उप पुलिस अधीक्षक बीरेंद यादव ने देर रात घटना स्थल का निरीक्षण किया।पुलिस ने पांच आरोपियों के विरुद्ध गोवध निवारण अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर विधिक कार्यवाही शुरू की है। प्रदेश में बीजेपी की सरकार आते ही मुख्यमंत्री के निर्देश पर गोवंश की रक्षा के लिए प्रशासन को कड़े निर्देश दिए गए थे। जिसके बाद कोतवाली प्रभारी धीरेंद्र प्रताप सिंह ने गो तस्करो के विरुद्ध अभियान छेड़ कर उनको सलाखों के पीछे भेजने व उनके विरुद्ध कार्यवाही किये जाने में गुरेज नही किया। रविवार की रात कोतवाली प्रभारी को मुखबिर से सूचना मिली कि मिल्कियाना पश्चिमी में एक घर के अंदर गोकशी की घटना को अंजाम दिया जा रहा है। जिसके बाद पुलिस ने कई थानो की फोर्स के साथ मुखबिर के बताए स्थान पर छापेमारी की।लेकिन घटना को अंजाम देने वाले सभी अभियुक्तों को पुलिस की छापेमारी की भनक लग गई और सभी आरोपी भाग निकले। पुलिस को छापेमारी के दौरान लगभग तीन कुंतल गोमांश तथा कटने के लिए लाए गए तीन जीवित गोवंशों को पुलिस ने अपनी अभिरक्षा में लेते हुए स्थानीय गौशाला के सुपुद्र कर दिया।

देर रात एडिशनल एस पी ने घटना स्थल का निरीक्षण किया है।कोतवाली प्रभारी ने बताया की सभी आरोपियों की शिनाख्त हो गई है। घटना को अंजाम देने वाले आरोपी रब्बानी, पप्पू पुत्रगण इस्लाम, अयाज पुत्र आजाद, पप्पू पुत्र खलील निवासी गण मिल्कियाना सलोन तथा दिलशाद पुत्र सफीक निवासी अत्तानागर के विरुद्ध गोवध अधिनियम के तहत 3ध्5ध्, 8ध्11, 7 क्रिमनल ला एक्ट 224 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। प्रभारी निरीक्षक धीरेन्द्र प्रताप सिंह ने बताया कि गोकशी में फरार आरोपियों को जल्द से जल्द सलाखों के पीछे भेजना ही मेरा मुख्य उद्देश्य है।

रिपोर्ट- राजेश यादव 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY