यात्रियों को लूटने वाले बड़े गिरोह का पर्दा फाश

0
101


उन्नाव (ब्यूरो) कानपुर-लखनऊ के मध्य चलने वाली ट्रेनों में खिड़की किनारे बैठे यात्रियों के हाथों में डंडा मारकर मोबाइल छीनने के साथ-साथ सोते हुए यात्रियों को लूटने वाले बड़े गिरोह का पर्दाफाश हुआ । थानाध्यक्ष जीआरपी ने चार अभियुक्तों को मोबाइल और नकदी के साथ गिरफ्तार किया है, बरामद किए गए मोबाइल की कीमत एक लाख से ऊपर की बताई जा रही है | इसके अलावा नकदी भी बरामद हुई है। थानाध्यक्ष जीआरपी ने जानकारी दी है कि मुखबिर की सूचना पर हुई इस कार्यवाही में पकड़े गए चोरों से पूछताछ जारी है | गौरतलब है कि आए दिन घट रही घटनाओं को जीआरपी के उच्चाधिकारियों ने भी संज्ञान में लिया और स्थानीय पुलिस को कार्यवाही करने को कहा था हरकत में आई है स्थानीय रेलवे पुलिस ने चार अभियुक्तों को पकड़ लिया गया है, कानपुर और गंगा घाट के बीच अधिकतर चोरी होती थी |

कानपुर पुल बायां किनारा गंगाघाट के पूर्वी दिशा की तरफ बने पुराने सिग्नल केबिन के पीछे से पकड़े गए अभियुक्तों के पास से विभिन्न कंपनियों के 10 मोबाइल बरामद किए गए। इनकी कीमत लगभग 1,05,000 है इसके साथ ही बारह सौ रुपए नगद बरामद हुए | थानाध्यक्ष ने बताया कि आवश्यक कार्यवाही करने के बाद रिमांड के लिए न्यायालय भेजा जाएगा, पकड़े गए अभियुक्तों में मनीष धूरिया, अंकित निषाद, बबलू पासवान, सूरज निषाद शामिल हैं । अभियुक्तों पर अभियोग पंजीकृत करके जेल भेज दिया गया है।

थाना अध्यक्ष जीतेंद्र सिंह ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर की गई कार्रवाई में पुलिस को बड़ी सफलता मिली। पुलिस टीम में विजय कुमार, मोहम्मद इमरान आदि शामिल थे। पकड़े गए अभियुक्तों के खिलाफ 41 CRPC व IPC 411/413, 380/411 के अंतर्गत मुकदमा पंजीकृत कराया गया है।

उन्होंने कहा कि अभियुक्तगण कानपुर-उन्नाव के बीच चलने वाली गाड़ियों के यात्रियों को अपना शिकार बनाते थे। थानाध्यक्ष के अनुसार खिड़की या दरवाजे के पास बैठे यात्रियों के हाथ में डंडा मारकर मोबाइल छीन लेते थे। रेलगाड़ियों में सोते हुए यात्रियों का सामान बैग व मोबाइल फोन भी चुरा लेते थे। थानाध्यक्ष के अनुसार पकड़े आरोपी बहुत लंबे समय से ये कार्य कर रहे थे।

रिपोर्ट – जीतेन्द्र गौड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here