मुकदमा तो दर्ज कर लिया पर कार्यवाही में आना-कानी कर रही पुलिस

0
162


सुल्तानपुर: पेशकार की पिटाई व बाइक छिनैती के मामले में पुलिस ने मुकदमा तो दर्ज कर लिया है, लेकिन मुकदमा दर्ज करने में भी पुलिस खेल करने से बाज नहीं आई। नतीजतन छिनैती की धारा को हटाकर मामूली धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है। जिसको लेकर सवाल उठने शुरू हो गए है।

मालूम हो कि जिला न्यायालय के पेशकार रवि प्रकाश श्रीवास्तव सोमवार को लंच टाइम में पयागीपुर स्थित बैंक शाखा में पत्नी का बैंक खाता खुलवाने गए थे। जहां से वापस लौटते समय चौराहे पर ड्यूटी पर लगे दारोगा संदीप राय व उनके साथ मौजूद एक दारोगा व सिपाही ने पेशकार की बाइक को रोकते हुए उन्हें जमकर मारा पीटा और छीन लिया।

आरोप अपने विभागीय कर्मियों के खिलाफ ही होने के चलते पुलिस ने उस दिन एफआईआर नहीं दर्ज किया। नतीजतन अगले दिन पुलिसिया कार्यशैली के विरोध में अधिवक्ता संघ भी उतर आया और जिला जज से मुलाकात की। इतना कुछ होने के बाद मंगलवार की देर शाम को कोतवाली पुलिस ने भादवि की धारा 323, 504, 506, में मुकदमा दर्ज किया। वहीं विधिक जानकारों की मानें तो पुलिस को तहरीर में दर्शाये गये तथ्यों के मुताबिक भादवि की धारा 392 के साथ अन्य धाराओं को दर्ज करना था, लेकिन पुलिस ने ऐसा नहीं किया है तो गलत है। इस संबंध में नगर कोतवाल कोतवाल पंकज वर्मा से बात की गई तो उन्होंने बताया कि पेशकार की गाड़ी को छोड़ के चले जाने के चलते कोतवाली में दाखिल किया गया है। इस बात की जानकारी उनके हेड मोहर्रिर को थी। इसलिए 392 की धारा दर्ज करना उचित नहीं था। उनसे जब यह पूंछा गया कि विवेचना के दौरान मिलने वाले साक्ष्यो के आधार पर धाराओं में कमी या बढ़ोत्तरी करनी चाहिए या उसके बजाय एफआईआर दर्ज करते समय ही धारा में कमी कर दी जाय तो यह उचित है अथवा अनुचित तो उन्होंने इसे उचित बताया। ऐसे में पुलिसिया कार्यशैली को लेकर सवाल उठ रहे है, कि पुलिस ने जान-बूझकर छिनैती की धारा नहीं दर्ज की है या फिर उनको कानून की जानकारी ही नही है।वहीं यह भी प्रश्न उठता है कि जब न्याय विभाग के कर्मचारी से जुड़े प्रकरण में पुलिस अपने पद का दुरूपयोग कर इतना खेल कर रही है तो आम जनता के लिए यह क्या-क्या व्यवहार व उनके साथ क्या-क्या खेल कर सकते है इसका तो अंदाजा ही नही लगाया जा सकता है।फिलहाल यह यूपी की महान पुलिस है इसके लिए तो कुछ भी असम्भव नही है।

रिपोर्ट – संतोष कुमार यादव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here