खाकी ने कसा शिकंजा, खौफ पैदा करने वाले पुलिस के रडार पर

0
169

IMG-20170105-WA0068
इटावा : विधान सभा चुनाव को लेकर खाकी भी हर तरह की मुहिम में जुटी है। मतदान में खौफ पैदा करने वाले संभावित अपराधियों को खदेड़ रही है। इसके लिए थाना क्षेत्र में गांवों के हिसाब से सूचीबद्ध एचएस, टाप टेन व टाप फाइव वाले जेल से बाहर चल रहे सक्रिय अपराधियों के घरों व अन्य ठहरने वाले संभावित स्थानों पर छापेमारी कर रही है।

इसके पीछे पुलिस की मंशा उन्हें जेल की सलाखों के पीछे पहुंचाने अथवा क्षेत्र से खदेड़ने की है। पुलिस का मानना है कि यह लोग चुनाव में प्रलोभन के सहारे मतदाताओं पर दबाव बनाने का काम कर सकते हैं। ऐसे तत्वों पर सख्त नजर रखकर उन पर कानूनी शिकंजा कसने के निर्देश थानाध्यक्ष को उच्चाधिकारियों से मिले हुए हैं। इसके अलावा पुलिस उन गांवों पर भी खासा ध्यान दे रही है जहां चुनाव की रंजिश में घटनाएं हो चुकी हैं और वहां अभी भी पक्ष व विपक्ष की गहरी खाई बनी हुई है। पुलिस रिकार्ड में ऐसे गांवों में बेरीखेड़ा, खितौरा , अलियापुर, नगलाबनी, अहेरीपुर, नगलावशी, कुशगवां अहिरान इत्यादि गांवों के नाम हैं। बेरीखेड़ा गांव में चुनावी रंजिश में अब तक पांच हत्याएं हो चुकी हैं। शेष गांवों में भी चुनाव के समय तनाव रहा है। इन गांवों से समय-समय पर चुनाव की रंजिश में झगड़े, मारपीट व खूनखराबे तक की सूचनाएं मिलती रही हैं। अब पुलिस इन गांवों पर खासा ध्यान इसलिए दे रही है कि चुनाव रंजिश में किसी तरह आम मतदाता भयभीत व प्रभावित नहीं हो। इसी मंशा से सोमवार को क्षेत्राधिकारी भरथना शिवराज ¨सह, थानाध्यक्ष जेपी यादव ने अलग-अलग दौरा किया। गांव के प्रधानों से मौजूदा माहौल की जानकारी करने के साथ अन्य लोगों से बातचीत की। थानाध्यक्ष जेपी यादव के मुताबिक उनसे कहा गया है कि वह किसी तरह की आशंका को लेकर भयभीत नहीं रहें। चुनाव में पर्याप्त पुलिस बल रहता है। निष्पक्षता के साथ मतदान करें। किसी के प्रलोभन व धमकाने में नहीं आएं। इस तरह की कोई चेष्टा करे तो उसकी सूचना थाने पर या पुलिस अधिकारियों को दी जाए। इसके लिए अधिकारियों ने अपने-अपने मोबाइल नंबर भी ग्रामीणों को उपलब्ध कराए ।

रिपोर्ट – सुशील कुमार

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY