थैले में गर्भ लेकर एसपी आॅफिस पहुंची एक मां, थानाध्यक्ष पर कार्यवाही न करने का आरोप

0
148

सुल्तानपुर(ब्यूरो)- जनपद में डंडामार महकमें की हाॅट सीट पर बैठे पुलिस कप्तान के सारे दावे व सभी प्राथमिकता तो धराशाही हो ही गई, तो वहीं कई थानाध्यक्षों व कोतवाल को अपनी कुर्सी गंवानी पडी़ तो वहीं कई ऐसे भ्रष्टाचार में लिप्त थानाध्यक्षों की रहनुमाई की गयी, जो शायद भ्रष्टाचार की बहती गंगा के सौदागर है और उन पर रहमों करम का कार्य कर कप्तान ने खेवन हार की रश्म अदायगी कर दिखाई है ।

ताजा मामला है, विवादित भूमिका में रहने वाले सब इंस्पेक्टर प्रभारी थानाध्यक्ष चांदा अनिल सोनकर का साहब की भूमिका पर हर वक़्त सवालिया निशान लगा रहता है| चाहे वह कादीपुर के प्रभार के दरमियान कोषागार से सवा करोड़ की चोरी का हो, कुड़वार में खबरनवीशों को भ्रामक सूचना देने का हो, भठ्ठे में झोंके गए संदीप पाठक प्रकरण में भठ्ठे मालिक को बचाने का कुचक्र रहा हो या अब ताजा मामला जो प्रकाश में आया है| यह मानवीयता, मानवता व खांकी को कलंकित कर देने वाला है और इसके वजहगार और कोई नहीं बल्कि थानाध्यक्ष चांदा अनिल सोनकर बने है|

मामला थाना क्षेत्र के छापर गोला का है जहाँ पर दबंगों का शिकार एक गर्भवती महिला बनी और दबंगो ने गर्भवती महिमा की जमकर पीटाई कर दी। जिससे गर्भ में बच्चे की मौत हो गई और महिला का गर्भपात हो गया, महिला कई दिन थाने की गणेश परिक्रमा करती रही और साहब पर दबंगों का रसूख सर चढ़ कर बोलता रहा और आखिरकार वह पीड़ित महिला जब पुलिस कप्तान के दरबार में एक थैले में मृत गर्भस्थ शिशु के अवशेष को लेकर पहुंची तो वहाँ मौजूद हर व्यक्ति सहम सा गया और महिला की शिकायत के बाद जांच का झुनझुना थमा दिया गया। ऐसे में देखना यह होगा कि क्या एसपी रोहन पी कनय कर्तव्यों के प्रति लापरवाह थानाध्यक्ष अनिल सोनकर पर करेंगे निलंबन की कार्यवाही या जारी रहेगी बिगड़ैल दरोगा की सरपरस्ती।

रिपोर्ट- दीपक मिश्रा 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY