पुलिस अधीक्षक ने किया अंधी हत्या का खुलासा

0
63

सोनभद्र/सिंगरौली (ब्यूरो)- बैढंन थाना अंतर्गत नवागत थाना प्रभारी टीआई मनीष त्रिपाठी को प्रभार मिलते ही 24 घण्टे के अन्दर पहले दिन चुनौती का सामना करना पड़ा। दिनांक 12/07/2017 को सुबह होते ही कचनी के काचन पुल के पास एक अज्ञात महिला(उम्र 35-40 वर्ष) का शव मिलने से पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गयी था। सूचना पर पुलिस अधीक्षक सिंगरौली मय एफएसएल टीम तथा थाना बैढन के पुलिस बल के साथ पहुंचे थे, घटनास्थल का तथ्यात्मक विश्लेषण किया गया था, प्रारंभिक रूप से थाना बैढन में मर्ग क्रमांक 66/17 धारा 174 जा.फौ. का दर्ज कर जांच में लिया गया था ।

मौके पर एक जोड़ी जनाना व एक जोड़ी मर्दाना चप्पल भी पाए गए तथा घसीटने के प्रमाण पाए गए थे| मृतिका की पहचान हेतु आसपास के सभी गांवो, मजदूरों सीसीटीवी तथा आधार पंजीयन की तलाश की गयीं| दिनांक 16/07/2017 को मृतिका की पहचान पानपति पत्नी- धानू सिंह गौड़ (उम्र 40 वर्ष) निवासी- पड़री खैरवारी टोला के रूप में हुई तथा पीएम रिपोर्ट के आधार पर आरोपी अज्ञात के विरुद्ध अपराध दर्ज कर आरोपी की तलाश हेतु कई टीमें बनायीं गयीं।

विवेचना के अनुक्रम मे दिनांक 11/07/2017 को उक्त महिला का आरोपी लाले गोड़ (लक्ष्मण) पिता- प्रेम सिंह गोड़ उम्र 28 वर्ष निवासी- कोयलखुथ थाना- माड़ा के साथ बैढन मजदूरी करने जाना पाया गया| कचनी के दिनेश साहू के घर पर काम करने जाना प्रमाणित हुआ| विवेचना में कचनी क्षेत्र में काम चल रहे सभी स्थानों, मकानों की तलाश पूछताछ करने पर साक्षीगण- ओमप्रकाश, पप्पू पनिका जो उसी क्षेत्र में काम कर रहे थे, ने घटना दिनांक को मृतिका-पानपति तथा आरोपी लाले गोड़ (लक्ष्मण) का कचनी पुल के आगे शराब पीकर जाते हुए देखा था, सन्देही घटना दिनांक से ही न तो अपने घर कोयलखुथ पहुंचा न ही बैढन आया।

मोबाइल को बंद कर पुलिस को गुमराह करने के लिए अपनी पत्नी के साथ भिजवा दिया था ताकि लोकेशन न पकड़ी जा सके| सन्देही की गिरफ्तारी हेतु जिला पुलिस अधीक्षक तथा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने थाना बैढन तथा अन्य अतिरिक्त बल व टीमे बनाकर आरोपी को माड़ा, झांझि, मकरोहर, ढेंका क्षेत्र में लगातार तलाश की जा गयी| दिनांक 19/07/2017 को आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ की गयीं तो आरोपी प्रारंभिक रूप से इंकार कर रहा था किंतु कड़ाई से पूछताछ तथा हाथ में आई चोट के बारे में पूछने पर घटना करने को स्वीकार किया कि घटना दिनांक को आरोपी मृतिका के साथ पूर्व से प्रेम संबंध होने से शराब पीकर एकांत की तलाश में सड़क से दूर नाले की तरफ गया किंतु मृतिका नशे में होने से आरोपी को उसकी एक अन्य प्रेमिका से दूर रहने को बोलने लगी किंतु आरोपी ने जबरन संबंध बनाने का प्रयास किया, जिस पर मृतिका ने आरोपी की हाथ की कलाई मे दांत से काट लिया|

गुस्सा आने पर आरोपी ने लात-घूसों से पहले मृतिका की पिटायीं की पश्चात बाल पकड़कर घसीटता हुआ और एकांत की तलाश में अंदर ले गया तथा सिर में पत्थर व हाथ में पहने कड़ा से तब तक पीटा जब तक मृतिका की मौत न हो गयीं| हत्या करने के दौरान आरोपी के हाथ तथा पंजे में चोट आयीं है तथा घटना के दौरान पहने कपड़े, लोहे का कड़ा, प्रयुक्त पत्थर को पुलिस ने जप्त कर लिया है| चप्पलों के शिनाख्त की कार्यवाही की गयीं व आरोपी को अपराध क्र. 550/17 धारा 302 ता.हि. का अपराध प्रमाणित होने से गिरफ्तार किया गया है ।

इस कार्यवाही व अंधी हत्या की खुलासा मे अतिरिक्त पुलिस अधिक्षक- सूर्यकान्त शर्मा, सिटी कोतवाली थाना प्रभारी टीआई- मनीष त्रिपाठी, एसआई- रामजी शर्मा, एसआई- प्रियंका मिश्रा, पीएसआई- अभिषेक पाण्डेय, पीएसआई- रोहित पटेल, पुरुषोत्तम पाठक, पप्पू सिंह, सुनील दुबे, जितेंद्र सिंह सेंगर, श्यामसुंदर बैस, जीवेंद्र मिश्रा, अजीत सिंह, पिंटू राय, रामजी पाण्डेय, दीपनारायण की अहम भूमिका रही।

रिपोर्ट – ज़मीर अंसारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here