अभी भी पुलिस की पकड़ से दूर है पूर्व प्रधान के हत्यारे, पहले भी हो चुके थे दो बार हमले

0
335

poorva pradhan

बीघापुर/उन्नाव (ब्यूरो)- थाना क्षेत्र के घाटमपुर खुर्द के पूर्व प्रधान की रविवार देर शाम गोली मारकर की गई हत्या के मामले में दो मोटर साईकिलो पर सवार 4 अज्ञात लोगो के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। वहीं रविवार की रात पूर्व प्रधान के परिजनो व समर्थको ने जिला अस्पताल में हंगामा करके रातो रात पोस्टमार्टम करा लिया तथा शव को लेकर घर आ गये। पुलिस ने भारी सुरक्षा के बीच पूर्व प्रधान का बक्सर घाट पर अंतिम संस्कार करा दिया। पुलिस हत्या के कारणो को ही समझने में लगी है और हत्यारो को पेशेवर व मृतक के परिचित होना मान रही।

क्या है पूरा मामला-
दरअसल आपको बता दें कि 29 जनवरी रविवार शाम 7 बजे घाटमपुर खुर्द पूर्व प्रधान 40 वर्षीय मनोज कुमार यादव घर के सामने ट्यूबवेल पर रखे छप्पर के नीचे अपने नजदीकी लोगो के साथ अलाव ताप रहे थे तभी बाईक सवार दो लोग अलाव के पास आये और कुर्सियो में बैठकर अलाव तापने लगे पूर्व प्रधान ने अपने भाई विनोद को गांव के अन्दर स्थित पुराने घर आये लोगो को पैसा देना है की बात कहकर पैसा लेने पुराने घर भेज दिया।

थोड़ी ही देर में आये आगंतुक जल्दी जाने की बात करकर अपनी खड़ी बाईक के पास आ गये तभी उनमें से एक ने पूर्व प्रधान से एक जरुरी बात सुनने की बात कहकर अपने पास बुला लिया पास आते ही बाईक में पीछे बैठे व्यक्ति ने लगातार सीने में दो फायर झोंक बाइक से भाग निकले। फायर की आवाज सुन अलाव ताप रहे लोग तथा छत पर मौजूद पिता प्रेमशंकर हतप्रभ रह गये।

थाने में सूचना मिलते ही क्षेत्राधिकारी रामकृष्ण चतुर्वेदी, थानाध्यक्ष बृजमोहन तत्काल घटना स्थल पहुंचे और पूर्व प्रधान को आनन फानन में क्षेत्राधिकारी ने अस्पताल भिजवाया। अस्पताल पहुंचने से पहले ही पूर्व प्रधान की मौत हो गयी। परिजन व समर्थक शव लेकर जिला अस्पताल आये और रात में ही पोस्टमार्टम किये जाने को लेकर हंगामा करने लगे। जिला मुख्यालय पर भारी पुलिस बल आ गया और रात में ही पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनो को सौप दिया गया। पुलिस सुरक्षा में सोमवार की सुबह शव लाया गया और बक्सर घाट में भारी भीड़ व पुलिस बल के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया।

मृतक के पिता प्रेम शंकर ने दो मोटर साईकिलो से आये 4 अज्ञात लोगो के खिलाफ केस दर्ज कराया है। घटना के बाद ही चुनाव के माहौल में हुई हत्या को लेकर हत्यारो को पकड़ने की कोशिश में पुलिस लगी हुई है। हत्या के कारणो को लेकर पुलिस निष्कर्ष नहीं निकाल पा रही है। थानाध्यक्ष बृजमोहन का कहना है कि कई सुरागो के आधार पर पुलिस हत्यारो को पकड़ने के प्रयास कर रही है।

अचलगंज के रहने वाले थे पूर्व प्रधान –
बता दें कि पूर्व प्रधान मनोज यादव मूलतः थाना अचलगंज के ग्राम रावल के रहने वाले है लेकिन उनके पिता प्रेम शंकर अपनी ससुराल घाटमपुर खुर्द में ही रहने लगे। मनोज ने वर्ष 2003 में ग्राम प्रधान रामनरेश सिंह की मृत्यु हो जाने के बाद उपचुनाव में प्रधान चुने गये थे। फिर दोबारा 2010 में चुने गये और 2015 में कुछ मतो से चुनाव हार गये थे। मृतक गंगा कटरी में जनसेवा के कारण चर्चित रहा है।

जन सामान्य में मृतक की अपराधी होने की बात मानी जाती थी किन्तु उसके विरुद्ध किसी भी थाने में मुकदमा नहीं था। अपने सरल स्वभाव व मिलन सारिता के कारण एक बड़े क्षेत्र में उसकी पहचान थी। राजनैतिक सक्रियता के कारण ज्ञात अज्ञात कई प्रतिद्वंदी भी थे। इस घटना के पूर्व दो बार इन पर जानलेवा हमला हो चुका था किन्तु हमले की कोई रिपोर्ट अंकित नहीं कराई गयी थी।
रिपोर्ट- मनोज सिंह
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY