पुलिस कर्मियों को मिलेगी क्लब की सौगात और नया आवास

0
43

मैनपुरी ब्यूरो : पुराने और जर्जर हो चुके आवासों से अब पुलिस कर्मियों को आखिर निजात मिल ही जायेगी। वर्ष 2017 में दिसंबर तक पुलिस कर्मियों को नया आवास और पुलिस क्लब की सौगात मिलने वाली है। शासन स्तर से पुलिस आवास निगम को निर्माण कार्य का ठेका दिया गया है। करोड़ों की लागत से निर्माणाधीन भवन का कार्य शुरू हो गया है।

जिले की पुलिस के लिये आवास की व्यवस्था तो है लेकिन ये भवन पूरी तरह से वेहद पुराने और जर्जर हो चुके है। इन भवनों में पुलिस कर्मियों के लिये रहना खतरे से खाली नहीं है। इसके बाबजूद भी पुलिस कर्मी जैसे-तैसे इन भवनों में मजबूरन रहने को विवश है। इस वर्ष शासन की ओर से पुलिस लाइन में करोडो की लागत से 36 चार मंजिला भवन बनाये जाने की स्वीकृत के साथ ही धनराशि भी उपलब्ध करा दी गई है। भवन निर्माण का जिम्मा पुलिस आवास निगम को सौंपा गया है। निगम ने निर्माण भी शुरू करा दिया है। अधिकारियों के मुताविक इन भवनों के निर्माण को दिसंबर के अंत तक पूरा करा लिया जायेगा। पुलिस लाइन में प्रवेश द्वारा के निकट ही पुलिस क्लब भी बनाया जायेगा इसकी जिम्मेदारी भी पुलिस आवास निगम को ही सौंपी गई है। पुलिस क्लब को निर्माण भी दिसंबर के अंत तक होने की बात कही जा रही है। पुलिस महकमें में इस वर्ष महिला थाना को भी नया भवन मिलने जा रहा है। वर्तमान में सीओ कार्यालय परिसर में बने महिला थाना में पर्याप्त सुविधाओं के साथ ही हवालात की सुविधा नहीं है। कुरावली मार्ग के समीप महिला थाना का निर्माण कराया गया है। इस भवन में दो हवालात बनाई जा रही है। इसका कार्य भी लगभग अंतिम चरण में है।

चैकी को मिला नया भवन
मैनपुरी। सालों से जर्जर भवन में चल रही रेलवे पुलिस गेट चैकी को हाल ही में तैयार हुये नये भवन में स्थानांतरित किया गया है। चैकी में इंचार्ज के बैठने के लिये शानदार केविन बनाई गयी है तथा बंदियों को रखने की व्यवस्था भी है। पुलिस चैकी को ठीक भांवत चैराहे पर बनाया गया है।

जेल में भी बनाई जा रही 10 नही बैरक
मैनपुरी। जिला कारागार में भी दस नई बैरकों का भी निर्माण किया जा रहा है। इसके लिये 5.26 करोड़ रूपये स्वीकृत किये जा चुके है। वर्तमान में जेल के अंदर बैरकों का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। इसके अलावा जिला कारागार में 85 लाख की लागत से वीडियों कांफ्रेसिंग कक्ष भी बनाया गया है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY