हवा-हवाई साबित हुआ गड्ढ़ा मुक्त सडकों का फरमान

0
68


उन्नाव (ब्यूरो) योगी सरकार का गड्ढा मुक्त सड़कों का फरमान हवाहवाई साबित होता नजर आ रहा है, सड़कें जैसी पहले थी वैसी ही आज भी हैं बल्कि पहले तो सड़क में गड्ढे होते थे लेकिन अब तो गड्ढ़ों में सड़क नजर आ रही है क्षेत्र में कोई भी सड़क गड्ढा मुक्त नजर नहीं आ रही है ये गलती किसकी सरकार की या उन अधिकारियों की जिनको इस कार्य की जिम्मेदारी दी गई थी, इस बात पर प्रश्न चिन्ह लगे हुए हैं लेकिन इससे जनता का जरूर बुरा हाल है|

तहसील क्षेत्र में कई सड़के ऐसी हैं जिनमे बारिश हीने के कारण पानी भर गया है, सड़क पर बने गड्ढे आने जाने वालों के लिए काल साबित हो रहे हैं, ऐसी ही एक सड़क तहसील क्षेत्र के ग्राम नवई से नेवालगंज जाने वाली सड़क है जिस पर एक ही बारिश में पूरी सड़क पानी से भर गई है जबकि इस सड़क के निर्माण हेतु प्रधानमंत्री सड़क निर्माण योजना के अंतर्गत 9 करोड़ 20 लाख रुपये दो महीने पहले ही स्वीकृत हो चुके हैं फिर भी सड़क का निर्माण न हो सका है वहीं ऐसी कई सड़कों में ठेकेदार द्वारा गिट्टी डाल कर गड्ढ़े बन्द कर काम पूरा कर लिया गया है और बरसात होते ही गिट्टी गड्ढ़ों से बाहर हो गई और पानी गड्ढ़ों में भर गया है |

संपर्क मार्ग आदि की तो बात छोड़ो लखनऊ-बांगरमऊ रोड जैसे मुख्य राजमार्ग की बात करें तो कस्बा हसनगंज में ऐसा कोई दिन नहीं होगा जिस दिन कोई न कोई राहगीर गड्ढ़ों में न गिरता हो बताते चलें कि इस रोड पर फुटों की नाप में गहरे और चौड़े गड्ढे है जिन पर आज तक अधिकारियों कि नजर न पड़ी है एक ही बारिश में इन गड्ढ़ों ने और भी विकराल रूप धारण कर लिया है और पूरी सड़क पर सिर्फ गड्ढ़े ही हैं, आने-जाने वाले राहगीर इन गड्ढ़ों में पानी भरे होने की वजह से इनकी गहराई का अंदाजा नहीं लगा पाते हैं औऱ इसमें गिरकर घायल हो जाते हैं ।

बताते चलें कि इस रोड की मरम्मत का कार्य तीन महीने पहले से चल रहा था जो कि लखनऊ की सूरज बिल्डर नाम की संस्था द्वारा किया जा रहा था लेकिन संस्था ने कस्बे के बाहर तक ही रोड पर डामरीकरण कराकर इति श्री कर लिया था | कस्बे में कोई काम ही नहीं हुआ था ऒर न अब तक हो पाया | जब रोड का कार्य चल रहा था तब लखनऊ मंडल के ए. सी. ए. के. श्ररीवास्तव ने निर्माण कार्य का जायजा भी लिया था जिसमें कमियों पर फटकार भी लगाई थी साथ ही उन्होंने बताया था कि 5713.50लाख रुपये की लागत से 48.77 किलोमीटर की लंबाई की सड़क का मरम्मतीकरण होना है लेकिन वो मरम्मती करण अब तक न पूरा हो सका है जिसका खामियाजा आये दिन राहगीर गड्ढ़ों में गिर कर घायल हो कर भुगत रहे हैं |

रिपोर्ट – राहुल राठौर

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY