रूफटाप ग्रिड संयोजित सेालर पावर प्लाण्ट संयंत्र की स्थापना

0
63

मैनपुरी (ब्यूरो) परियेाजना अधिकारी नेडा संजय वर्मा ने बताया कि शहरी क्षेत्रों एवं बड़े नगरो में सरकारी, गैर सरकारी कार्यालय भवनों, चिकित्सालय, शैक्षिक संस्थानाअें एवं व्यवसायिक भवनो में जिनमे पारम्परिक ऊर्जा का विद्युत बिल अधिक आता है, की छत पर ग्रिड संयोजित रूफटाप सोलर पावर प्लाण्ट की स्थापना करायी जा सकती है।

श्री वर्मा ने बताया कि रूफटाप ग्रिड संयोजित सेालर पावर प्लाण्ट संयंत्र की स्थापना से जिवाश्म ईधन में विद्युत उत्पादन पर निर्भरता में कमी आयेगी,भवनो के आसपास की रिक्त भूमि का ईंधन उपयोग मे आयेगा,पारेषण एव वितरण अवस्थापना पर होने वाले व्यय में बचत में,पारेषण नेटवर्क की हानियेां, विद्युत अनुसूचिकरण के प्रबन्धन की लागत में कमी आयेगी। रूफटाप ग्रिड संयोजित सेालर पावर प्लाण्ट संयंत्र की स्थापना किसी भी कार्यालय,प्रतिष्ठान,संस्थान आदि पर दो मोड में कार्यान्वित करायी जा सकती है।

उन्होने बताया कि यह संयंत्र नेट मीटरिंग अथवा नेटबिलिंग प्रणाली पर आधारित हैं रूफटाप इससे उत्पादित ऊर्जा का उपयोग दिन में ग्रिड पारम्परिक ऊर्जा के स्थान पर किया जा सकता है। संयत्र से उत्पादित सौर ऊर्जा,खपत हेतु आवश्यक ऊर्जा मात्रा से अधिक होने की स्थिति में अतिरिक्त ऊर्जा को ग्रिड में फीड किया जा सकता है। उन्होने बताया कि रूफटाप ग्रिड संयोजित सेालर पावर प्लाण्ट संयंत्र की स्थापना के साथ स्थापित विद्युत मीटर के स्थान पर द्विपक्षीय मीटर की स्थापना की जायेगी जो कि ग्रिड पारम्परिक पावार के खपत के अतिरिक्त उत्पादित सौर पावर जो ग्रिड मे फीड की जा रही है को रिकार्ड करेगा उपभोक्ता केा माह में फीड की गयी अतिरिक्त उत्पादित सौर पावर का भुगतान यूपीपीसीएल द्वारा रू. 2.00 प्रति यूनिट की दर से वर्ष के अन्त में किया जायेगा।

रिपोर्ट – दीपक शर्मा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here