प्रभारी मंत्री उड़वा और दौलतपुर में लगाएंगे जनचौपाल

0
95

रायबरेली(ब्यूरो)- प्रदेश स्टाम्प, पंजीयन और नागरिक उड्डयन मंत्री और जिले के प्रभारी मंत्री नंद गोपाल गुप्ता ‘नंदी’ नई पहल शुरू रने वाले है। प्रथम स्वाधीनता संग्राम में अंग्रेजों से मोर्चा लेने वाले अमर नायक राना बेनी माधव बख्श सिंह के गांव उड़वा और आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी की जन्मस्थली दौलतपुर में जनचौपाल लगाएंगे। दोनों गांवों की सूरत बदलने की कोशिश तो होगी ही, साथ ही मेले लगाकर ग्रामीणों को केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं की जानकारी दी जाएगी। मंत्री गुप्ता ने इस बात पर सहमति जताई कि स्वाधीनता संग्राम और हिन्दी साहित्य में इन दोनों ही गांवों का अहम योगदान है। जिले की इन दोनों ही विभूतियों को नमन करना हर सरकार और शासन-प्रशासन का दायित्व है। दोनों ही गांवों में सरकारी योजनाओं का प्रचार-प्रसार के साथ ही मेलों में ही आम लोगों की समस्याओं का त्वरित निस्तारण होगा और लाभर्थियों को योजनाओं का लाभ भी दिया जाएगा। उन्होने कहा कि इस संबंध में जल्द ही जिलाधिकारी से चर्चा कर योजना को मूर्तरूप पहनाया जाएगा।

शासन का प्रयास होगा कि इन दोनों महान विभूतियों की स्मृतियों को भी जीवंत बनाया जाए। जब मंत्री श्री गुप्ता ने इस बात पर सहमति जताई कि स्वाधीनता संग्राम और हिन्दी साहित्य में इन दोनों ही गांवों का अहम योगदान है। जिले की इन दोनों ही विभूतियों को नमन करना हर सरकार और शासन-प्रशासन का दायित्व है। दोनों ही गांवों में सरकारी योजनाओं का प्रचार-प्रसार के साथ ही मेलों में ही आम लोगों की समस्याओं का त्वरित निस्तारण होगा और लाभर्थियों को योजनाओं का लाभ भी दिया जाएगा। उन्होने कहा कि इस संबंध में जल्द ही जिलाधिकारी से चर्चा कर योजना को मूर्तरूप पहनाया जाएगा। शासन का प्रयास होगा कि इन दोनों महान विभूतियों की स्मृतियों को भी जीवंत बनाया जाए।

दोनों ही गांवों का है ऐतिहासिक महत्व-
प्रथाम स्वाधीनता संग्राम के अमर नायक राना बेनी माधव सिंह का जन्म जगतपुर विकास क्षेत्र में पड़ने वाले उड़वा गांव में हुआ था। शंकरपुर में राना का भव्य महल स्थित था। स्वाधीनता के लिए राना बेनी माधव सिंह ने ब्रिटिश हुकूमत का जमकर विरोध किया। ब्रिटिश हुक्मरानों ने उनका किला तोपों से उड़वा दिया था। युद्ध में पराजय के बाद राना बेनी माधव नेपाल के जंगलों की तरफ कूच कर गए और फिर उनका कोई पता नहीं चला।जब प्रथम स्वाधीनता संग्राम के अमर नायक राना बेनी माधव सिंह का जन्म जगतपुर विकास क्षेत्र में पड़ने वाले उड़वा गांव में हुआ था। शंकरपुर में राना का भव्य महल स्थित था। स्वाधीनता के लिए राना बेनी माधव सिंह ने ब्रिटिश हुकूमत का जमकर विरोध किया। ब्रिटिश हुक्मरानों ने उनका किला तोपों से उड़वा दिया था।

युद्ध में पराजय के बाद राना बेनी माधव नेपाल के जंगलों की तरफ कूच कर गए और फिर उनका कोई पता नहीं चला।उधर दूसरी ओर हिन्दी खड़ी बोली को जन्म देने वाले आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी का जन्म नौ मई 1864 को गंगा किनारे बसे सरेनी विकास क्षेत्र के दौलतपुर गांव में हुआ था। वर्ष 1903 से 1921 तक सरस्वती का संपादन कर आपने साहित्य जगत में नई पीढ़ी तैयार की। जब उधर दूसरी ओर हिन्दी खड़ी बोली को जन्म देने वाले आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी का जन्म 9 मई 1864 को गंगा किनारे बसे सरेनी विकास क्षेत्र के दौलतपुर गांव में हुआ था। वर्ष 1903 से 1921 तक सरस्वती का संपादन कर आपने साहित्य जगत में नई पीढ़ी तैयार की।

दौलतपुर में इन विकास कार्यो की दरकारजब दौलतपुर में इन विकास कार्यों की-
दौलतपुर में आचार्य द्विवेदी के जन्मस्थान पर बहुउद्देश्यीय पंचायत भवन पिछले 17 वर्षों से अधूरा पड़ा है। गांव में आयुर्वेदिक अस्पताल तो है लेकिन अपना भवन आज तक नहीं बन पाया। गांव में लगभ डेढ़ दशक पहले भोजपुर की पानी की टंकी से पाइप लाइन से पेयजलापूर्ति होती थी लेकिन इस समय यह सुविधा मयस्सर नहीं है। लोहिया ग्राम होने के बावजूद गांव की कई गलियां और रास्ते अभी तक कच्चे हैं।जब दौलतपुर में आचार्य द्विवेदी के जन्मस्थान पर बहुउद्देश्यीय पंचायत भवन पिछले 17 वर्षों से अधूरा पड़ा है। गांव में आयुर्वेदिक अस्पताल तो है लेकिन अपना भवन आज तक नहीं बन पाया। गांव में लगभ डेढ़ दशक पहले भोजपुर की पानी की टंकी से पाइप लाइन से पेयजलापूर्ति होती थी लेकिन इस समय यह सुविधा मयस्सर नहीं है। लोहिया ग्राम होने के बावजूद गांव की कई गलियां और रास्ते अभी तक कच्चे हैं।

गांव के पंचायत भवन में लगी नई इंटरलकिंग जब गांव के पंचायत भवन में लगी नई इंटरलकिंग-
दौलतपुर में पूर्व जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने दौलतपुर स्थित पंचायत भवन के बाहर क्रिटिकल गैप फंड से साढ़े पांच लाख रुपए की लागत से इंटरलकिंग का कार्य स्वीत किया था। यह कार्य पूर्ण हो चुका है। प्रभारी मंत्री जनचौपाल के वक्त इस कार्य का लोकार्पण भी कर सकते हैं।

जब दौलतपुर में पूर्व जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने दौलतपुर स्थित पंचायत भवन के बाहर क्रिटिकल गैप फंड से साढ़े पांच लाख रुपए की लागत से इंटरलकिंग का कार्य स्वीत किया था। यह कार्य पूर्ण हो चुका है। प्रभारी मंत्री जनचौपाल के वक्त इस कार्य का लोकार्पण भी कर सकते हैं|

रिपोर्ट- अनुज मौर्य

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY