रास्ते का पता नही पुल बनवाया करोड़ो का

0
319

road

प्रतापगढ़/कालाकांकर (ब्यूरो)- दो जिले को जोड़ने के लिये और राहगीरो की दूरी को कम करने के लिये राज्य सरकार द्वारा करोडो रूपये की लागत से बनाया गया पुल अधिकारियों और नेताओं की अदूरदर्शिता के कारण वीरान पड़ा हुआ है। पुल तक जाने के लिए रास्ता न होने से पुल बनने का फायदा यात्रियों को नहीं मिल पा रहा है।

प्रतापगढ़ जिले से कौशांबी जनपद की दूरी को कम करने के लिए कुंडा तहसील के मानिकपुर बाजार और कौशाम्बी के सैनी बाजार को जोड़ते हुए एक पुल का निर्माण कराया गया है। लेकिन पुल तक जाने के लिए मानिकपुर की ओर से रास्ता अभी तक नहीं बन पाया है। दरअसल पुल का एक छोर कौशांबी जिले में है और दूसरा प्रतापगढ़ जिले में।

कौशाम्बी जिले में पुल तक तो लोक निर्माण विभाग ने सड़क बनवा दिया है लेकिन प्रतापगढ़ की ओर अभी तक कोई भी रास्ते का निर्माण नहीं किया गया। रास्ता न होने से राहगीरों को अब भी इस पुल का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

इलाहाबाद-लखनऊ मुख्य मार्ग से करीब दो किमी की दूरी पर बने इस पुल तक सड़क बनवाने के लिए स्थानीय लोगो और समाज सेवियों ने कई बार जिले के आलाधिकारियों से आग्रह किया लेकिन बजट का अभाव बताकर सड़क का निर्माण करने से मना कर दिया गया। जिला प्रशासन द्वारा बजट का अभाव बताने पर स्थानीय समाज सेवियों ने अपने पैसे से जेसीबी लगाकर कच्चे रास्ते पर मिट्टी डलवा दिया, जिससे कुछ हद तक आवागमन में आसानी हो गई है।

लेकिन शासन प्रशासन और नेताओं की अदूदर्शिता और उनकी उदासीनता के कारण आज तक दोनों जिले के राहगीरो को इस पुल का लाभ नहीं मिल पा रहा है और करोडो रूपये की लागत से बना यह पुल रास्ता न होने से वीरान पड़ा हुआ है और राहगीरों को अब भी लंबी दूरी तय करके दोनों जिलों में यात्रा करनी पड़ती है।
रिपोर्ट-पंकज मौर्य

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY