देश की पहली ट्रांसजेंडर पुलिस सब-इंस्पेक्टर बनेंगी प्रथिका यशिनी |

0
476

prithika-yashini

मद्रास हाई कोर्ट ने गुरुवार को एक ऐतिहासिक फैसले में 25 साल की चेन्नई की रहने वाली पृथिका यशिनी के देश की पहली ट्रांसजेंडर सब-इंस्पेक्टर बनने के रास्ते को साफ़ कर दिया है | हाईकोर्ट ने यशिनी को सब-इंस्पेक्टर पद के लिए योग्य उम्मीदवार घोषित किया किया है, जिसके बाद  पृथिका के अप्वाइंटमेंट का रास्ता साफ हो गया है।

कोर्ट ने भर्ती बोर्ड को यह निर्देश भी दिया है कि वे भारती के नियमों में जरूरी बदलाव करें ताकि पुलिस में ट्रांसजेंडर्स की तादाद बढ़ाई जा सके।  पृथिका यशिनी का जन्म और पालन पोषण प्रदीप कुमार के तौर पर हुआ, कंप्यूटर एप्लिकेशन में स्नातक करने के बाद उनकी सेक्स बदलने के लिए सर्जरी हुई और वे प्रदीप से पृथिका बन गईं।

पुलिस भर्ती बोर्ड ने सब इंस्पेक्टर बनने के उनके आवेदन को खारिज कर दिया था। क्योंकि उनका नाम और ओरिजिनल सर्टिफिकेट्स मेल नहीं खाते थे। साथ ही भर्ती के फॉर्म में थर्ड जेंडर की कैटेगिरी नहीं थी। ट्रांसजेंडर्स के लिए कोटा, कंसेशनल कट ऑफ, फिजिकल परीक्षा या इंटरव्यू की व्यवस्था भी नहीं थी।

पृथिका ने कोर्ट में कई याचिकाएं दायर की । उन्होंने सभी फिजिकल एग्जाम भी पास किया। सिर्फ 100 मीटर की दौड़ में वे 1.1 सेकंड से पिछड़ गईं। कोर्ट ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि फिजिकल टेस्ट में 1.1 सेकंड में हुई देरी पृथिका के सब-इंस्पेक्टर बनने की राह में रोड़ा बनेगा। यानी अब पृथिका देश की पहली ट्रांसजेंडर सब-इंस्पेक्टर होंगी।

प्रथिका की इस जीत के बाद देश के अन्य ट्रांसजेंडरों के लिए सरकारी नौकरी की उम्मीद जगी है, इस आदेश के बाद ट्रांसजेंडरों की जिंदगी में बड़े परिवर्तन होने की उम्मीद है |

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY