आईटीआई प्रवेश परीक्षा : बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ सुविधा शुल्क लेकर लगा दिया फर्जी अंक पत्र

बलिया (ब्यूरो)- जनपद की पांचों राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान आईटीआई में वर्ष 2016 में बेल्डर, वायरमैन आदि ट्रेडों में कक्षा आठ पास पर एक वर्षीय कोर्स में प्रवेश से सम्बंधित परीक्षा में घोर धांधली हुई है। इसमें फर्जी अंक पत्र के मेरिट के आधार पर प्रवेश के नाम पर बच्चों से 15 हजार से 20 हजार रूपये प्रति छात्र लेने का आरोप है। इस अंक पत्र का कोई जांच भी नहीं कराया गया है।

मात्र जांच के नाम पर कागजों में खानापूर्ति की गयी है। इस कार्य में विभागीय अधिकारी और कर्मचारी ने मिल-बांटकर धन की उगाही की है। यदि जांच करा दी जाय तो लगभग 90 प्रतिशत फर्जी अभ्यर्थी पकड़े जा सकते है और अन्य ट्रेडों में भी इसी प्रकार की धांधली प्रकाश में आ सकती है।

सूत्रों की मानें तो यह एक ऐसा भ्रष्ट विभाग है जो किसी सरकार में अपना खेल खेलते है और किसी जांच से इनको भय भी नहीं है। क्योंकि कितनी जांचे आयी और चली गयी और इन लोगों ने धन के बल पर सब जाचें दबा दी गयी। अभी जिले में मनोज राय हंस वकील इस विभाग की भ्रष्टता को उजागर कर लड़ाई लड़ रहे है।

उन्होंने जिलाधिकारी को शिकायती पत्र देकर राजकीय आईटीआई द्वारा प्रत्येक बच्चें से धन उगाही करके बिना प्रेक्टिकल कराये 270 नम्बरों में से 265 नम्बर दिये जाने का आरोप लगाया है। विभागीय कर्मचारी और अधिकारी द्वारा बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ करते है। इन लोगों को धन उगाही के अलावा कोई बात नहीं सुलझती है। यदि निष्पक्ष एजेंसी से जांच करायी जाय तो ऐसे कई बडे मामले उजागर हो सकते है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY