वादे सिर्फ वादे बनकर रह गए

0
106


रायबरेली (ब्यूरो) मुख्यमंत्री आदित्य योगी नाथ की शहरी क्षेत्र में 24 घण्टे व तहसील को 20 घण्टे बिजली देने की घोषणा हवा हवाई साबित हो रही है।20 घण्टे की बात तो दूर 5 घण्टे भी बिजली नहीं मिल पा रही है। लोगों का मानना है कि इससे अच्छी बिजली तो सपा शासन में मिल रही थी। जनता ने जिस उम्मीद से रावत जी को जिताया था उसपर पानी फिरता नजर आने लगा है।

आज जनता बिजली और पानी के लिए त्राहि त्राहि कर रही है।इस भीषण गर्मी में सो नही पा रही है किन्तु उसकी सुध लेने वाला न तो शासन सत्ता का कोई नेता आगे आ रहा है और न तो विपक्ष का । ये सब चुनाव के समय ही जनता के हमदर्द नजर आते है । सिर्फ बछरावां विधान सभा का ही ये हाल है ऐसा क्यों ? इसका जबाब किसी के पास नही है। ऐसा नही है कि इस समस्या से कोई परिचित न हो किन्तु इस पर कोई ध्यान देने वाला नजर नही आ रहा है । बिजली शाम को 7 से 10 और रात 1 से सुबह 9 तक वह भी अनेको बार की ट्रिपिंग से जनता त्रस्त हो गयी है। दिन में इस भीषण गर्मी में लोगो को किसी पेड़ की छाया का सहारा लेना पड़ता है। वहीं सरकारी काम राम भरोसे होता है। यदि यही हाल रहा तो बीजेपी को 2019 के चुनाव में जनता से मुँह चुराना पड़ेगा।

शहर की भी स्थित कुछ खास अच्छी नही है दिन भर में बीसो बार लाइट कटती है ईद के दिन ये हाल रहा कि पूरे दिन पूरी रात बिजली कटती रही आखिर जब सरकार के पास तैयारियां नही पूरी रहती तो आम जनमानस से वादा क्यू करती है बिजली की खराब वयवस्था लगभग हर गाँव मे एक जैसी बनी हुई है | किसानों को पानी लगाना है खेतों में, बच्चों के स्कूल खुलने वाले है जिसमें अगर बिजली सही से नहीं मिलेगी तो कैसे लोग अपना कार्य कर पाएंगे

रिपोर्ट- अनुज मौर्य

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here