सेना के जवान उधर आतंकियों से ले रहे थे लोहा, इधर मश्ज़िदों से लग रहे थे आतंकियों के समर्थन में नारे

0
580

श्रीनगर- श्रीनगर के पम्पोर में जहाँ स्किल डेवलपमेंट की बिल्डिंग में छिपे हुए आतंकियों के खिलाफ सेना एक तरफ अपनी जान की परवाह किये बगैर मोर्चा संभाले हुए थी वहीँ दूसरी तरफ देश के भीतर मुठभेड़ स्थल के आस-पास ही बनी मश्जिदों से पाकिस्तान और आतंकियों के समर्थन में नारे लग रहे थे I बता दें कि आतंकियों को मुजाहिद कह-कह कर उनका समर्थन किया जा रहा था I ज्ञात हो कि आतंकियों ने यह हमला शनिवार को किया था और सोमवार शाम तक सेना का ऑपरेशन चला है I

श्रीनगर मश्ज़िद से लगे पाकिस्तान और आतंकियों के समर्थन में नारे –
देश के दो प्रतिष्ठित अखबारों ने आज छापा है कि जिस समय पम्पोर में सेना के बहादुर जवान अपनी जान की परवाह किये बिना आतंकियों से लोहा ले रहे थे ठीक उसी समय बगल की मश्ज़िदों से आतंकियों के समर्थन में नारे लगाए जा रहे थे I मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि फरेस्टाबल, दरांगबल, कदलाबल और सेमपोरा जैसे इलाकों की मस्जिदों में सोमवार को आतंकियों के सपोर्ट में नारे लगे। नारों में कहा जा रहा था कि जागो, जागो सुबह हुई, प्रो-पाकिस्तानी नारे जीवे, जीवे पाकिस्तान और प्रो-आजादी नारे हम क्या चाहते हैं- आजादी। सैकड़ों लड़के एंटरप्रेन्योर डेवलपमेंट इंस्टिट्यूट की बिल्डिंग के आसपास भी नारेबाजी करने पहुंचे। इसी बिल्डिंग में आतंकी छिपे थे और आर्मी एनकाउंटर कर रही थी। बताया जा रहा है कि आतंकियों के सपोर्ट में पहुंचे लड़कों ने सिक्युरिटी फोर्सेज को कॉम्बैट ऑपरेशन से रोकने की भी कोशिश की।

इसे भी पढ़ें – जम्मू-कश्मीर एनकाउंटर ख़त्म, दो कैप्टन समेत 5 जवान शहीद

आतंकियों का समर्थन करने के लिए पहुंचे आस-पास के लोग –
जिस समय सेना स्किल डेवलपमेंट की बिल्डिंग में छिपे हुए आतंकियों का सफाया करने में जुटी थी और उसने अपने दो बहादुर अफसरों को खो दिया था ठीक उसी समय पम्पोर और आस-पास के लोग इक्कठा होकर सेना के मनोबल को तोड़ने के लिए कार्यवाही स्थल पर जाने की कोशिस कर रहे थे I इनमें ज्यादातर युवा थे और वह आतंकियो के समर्थन में नारे लगा रहे थे I इनके नारे ठीक कुछ दिन पहले जेएनयू में लगे नारों की ही तरह थे I जेएनयू में जिस तरह से हमें आज़ादी चाहिए के नारे लगे थे ठीक उसी प्रकार से यहाँ भी आज़ादी के नारे लगाए जा रहे थे I

सीआरपीएफ के जवानों और उपद्रवियों में हुआ संघर्ष –
सेना के कार्यवाही में बाधा पहुंचाने के लिए कार्यवाही स्थल की तरफ आने वाले लोगों को रोकने के लिए सीआरपीएफ ने मोर्चा संभाल रखा था I आतंकियों के समर्थकों और सीआरपीएफ के जावानों में काफी संघर्ष हुआ और इस दौरान सीआरपीएफ के एक सहायक कमान्डेंट समेत तक़रीबन 10 जवान घायल भी हो गए जबकि उपद्रवियों में भी कुछ लोगों को चोट आई है I फिलहाल पूरे इलाके में सुरक्षा के चाक चौबंद इंतजाम किये गए है और स्थित काबू में है I

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here