खण्ड शिक्षाधिकारी की बदजुबानी को लेकर आंदोलन की तैयारी, स्थानीय पत्रकार के साथ की अभ्रदता

0
185

पुरवा/उन्नाव (ब्यूरो) खण्ड शिक्षाधिकारी रंगनाथ चैधरी की कार्यप्रणाली किसी को रास नहीं आ रही है। वह अधिकारी कम तानाशाह अधिक है। चर्चा यह कि उन्होंने षिक्षा जैसे पवित्र विभाग को लूट का अड्डा बना रखा है और मनमानी पर उतर आऐं है। सूत्रों केी मानें तो मुख्यमंत्री के सख्त आदेषों के बावजूद जनता से मिलने के समय में वह कार्यालय मे नहीं मिलते। मिलने जाने वालों से अभ्रदता उनका स्वभाव है। पानी सर से निकल रहा है। विभाग से लेकर आमजन में एस0डी0आई0के प्रति जबरदस्त आक्रोष है। हालात से कहा जा सकता है यह अधिक दिन यहां रूके तो कुछ अप्रिय हो जाऐ तो तो ताज्जुब न मानिएगा।

सनद रहे कि रंगनाथ चैधरी उन्नाव में लगभग नौ साल से कार्यरत हैं, जो नियम विरुद्ध है। इनके साथ तैनाती पाऐ सभी शिक्षाधिकारी गैर जनपद भेज दिऐ गऐ मगर यह वर्तमान में पुरवा में रहकर योगी सयरकार की कब्र खोद रहें हैं । सूत्र बतातें हैं कि उन्नाव को उपजाऊ खेती मान चुके चैधरी ने विभाग के एक आलाधिकारी को मोटी रकम देकर अपना स्थानान्तरण रूकवाया है। सैंया भऐ कोतवाल अब डर काहे का की कहावत को चरितार्थ कर रहे चैधरी की बत्तमीजी के चर्चे आम हो चुके है। बतौर सबूत कहें तो हाल ही प्राइवेट स्कूलों के बारे में जानकारी हांसिल करने गऐ एक स्थानीय पत्रकार को अपमानित किया और देख लेने की धमकी दी। ऐसा ही वाक्या एक और पत्रकार के साथ घटित हुआ। तमाम शिक्षक भी मानते हैं कि खण्ड षिक्षाधिकारी का रवैया बेहद खराब है वह बदजुबान है। किसी से भी ठीक से बात नहीं करते ऐसे बदजुबान एवं लूटेरे अधिकारी के कारण ही राज्य की योगी सरकार बदनाम हो रही है।

उल्लेखनीय हैे कि खण्ड शिक्षाधिकारी रंगनाथ चैधरी ने कुछ दिन पूर्व हुऐ एस0एम0 सी0 प्रषिक्षण के नाम पर जमकर पैसा बटोरा अधिकांष स्कूलों में प्रषिक्षण हुआ ही नहीं केवल खाना पूरी कर लगभग डेढ़ लाख का चूना लगाया।सूत्रों की मानें तो चैधरी जांच के धेरे में है। निष्पक्ष जांच हुयी तो नौकरी खतरे में पड़ जाऐगी। चैधरी के गंदे कारनामों को लेकर शिक्षकों में उबाल है। कार्यवाही के भय से कोई जुबान नहीं खोलता, लगातार विभाग और सरकार की छवि को बट्टा लगा रहे शिक्षाधिकारी के विरुद्ध कठोर कार्यवाही हो मांग हर तरफ से उठ रही है। इस संदर्भ भाजपा महामंत्री कपिल त्रिपाठी का कहना है शिकायतें बहुत हैं एस.डी.आई. का आचरण निन्दनीय है, वह राज्य के मुख्यमंत्री व प्रदेश संगठन को पत्र लिखकर हालात से अवगत कराएँगे, जरूरी हुआ तो आंदोलन भी करेंगे।

पत्रकारों का अपमान का बर्दाष्त नहीं किया जाऐगा।
स्थानीय पत्रकारों के साथ अभ्रद बातचीत को लेकर जनहितकारी ग्रामीण पत्रकार ऐसोषिएसन ने आंदोलन का ऐलान किया है। इस बाबत जल्द ही एक प्रतिनिधि मण्डल उपजिलाधिकारी से मिलकर चैधरी के विरूद्व कार्यवाही की मांग करेगा। यही नहीं कार्यवाही नहीं हुयी तो आंदोलन का बिगुल फूंक दिया जाऐगा। इस बाबत एसो. के अध्यक्ष जयषंकर पाण्डेय ने सभी सदस्यों से तैयार रहने को कहा है।

रिपोर्ट – मो. अहमद चुनई

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY