देहरादून के SP सिटी अजय सिंह ने 5 महीने में 5 बड़े अपराधी को पहुंचाया सलाखों के पीछे

0
107

दून के अंकित हत्याकांड के मुख्य आरोपी को पुलिस ने ढाई साल बाद ने मुजफ्फरनगर मंडी से किया गिरफ्तार-

दून के बहुचर्चित अंकित थपलियाल हत्याकांड का आरोपी अकरम ढाई साल बाद पुलिस की गिरफ्त में आ गया है। पचास हजार का इनामी मोस्ट वांटेड अपराधी अकरम गुजरात में छिपा हुआ था। उसके पांच साथी पहले ही गिरफ्तार हो चुके हैं।
गौरतलब है कि वर्ष 2014 में नकरौंदा रोड के विवेक विहार निवासी सहायक कृषि अधिकारी सुरेंद्र थपलियाल के आवास पर तड़के पौने चार बजे बदमाशों ने डकैती के इरादे से सुरेंद्र थपलियाल उनकी पत्नी अंजनी, सास बिंदेश्वरी को मारपीट कर लहूलुहान कर दिया था। पिता और मां की चीख सुनकर पहली मंजिल से नीचे आया अंकित थपलियाल (23) बदमाशों से भिड़ गया। अंकित भारी पड़ा तो एक बदमाश ने उसे गोली मार दी, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

इस हत्याकांड को लेकर जमकर बवाल हुआ था। हत्याकांड ने पुलिस के साथ हरीश रावत सरकार की बेचैनी भी बढ़ा दी थी। पुलिस को तमाम माथापच्ची के बाद भी कुछ हाथ नहीं लग पाया था। इसी बीच यूपी की बिजनौर पुलिस के हाथ नदीम आया तो घटना का खुलासा हुआ। इस सुराग से सक्रिय हुई दून पुलिस ने कई अपराधी दबोच लिए। नदीम के अलावा अखलाक, शहजाद, साजिद पहलवान और साजिद मोटा जेल चले गए, जबकि अकरम हाथ नहीं लगा। सरकार और अफसरों के दबाव के चलते अकरम पर इनाम बढ़ता गया। पुलिस अधीक्षक नगर अजय सिंह की अगुवाई में टीम कई बार उसकी तलाश में यूपी गई, लेकिन निराशा ही हाथ लगी।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक खबर थी कि अकरम निवासी बुंटा थाना शामली (उत्तर प्रदेश) पहचान छिपाकर गुजरात में वाहन चला रहा है। इसी आधार पर पुलिस ने गुजरात में घेराबंदी कर अकरम को दबोच लिया। दून पुलिस अकरम को लेकर सुबह यहां पहुंचेगी। अकरम के पकड़े जाने से पुलिस अधिकारियों के चेहरे खिल गए है, क्याेंकि लंबे समय वह चुनौती बना था। बुधवार को पुलिस उसकी गिरफ्तारी की अधिकारिक पुष्टि कर सकती है।

अब खुलेगा राज, किसकी लगी गोली-
अकरम के फरार होने के कारण इस रहस्य से पर्दा नहीं उठ पाया था कि अंकित थपलियाल को किसकी गोली लगी थी। जेल गए पांचों आरोपियों ने पूछताछ में कबूल किया था कि अकरम की गोली से अंकित की जान गई थी। परिजनों के साथ पुलिस ने भी उनके बयान को सही नहीं माना था। हो सकता है कि खुद को बचाने के लिए वह झूठ बोल रहे हैं। अकरम की पूछताछ में इस राज से भी पर्दा उठने की उम्मीद है।

अशोक राठौड़ व नरेश राठौर की जोड़ी ने फिर किया एक बड़ा धमाल-
टीम में शामिल एसओजी टीम के प्रभारी अशोक राठौड़ व प्रेम नगर ऐसो नरेश राठौर
क्षेत्र अधिकारी पंकज गैरोला व isbt इंचार्ज संदीप कुमार व सुशील कुमार

रिपोर्ट- शादाब
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY