पंडित दीनदयाल राजकीय चिकित्सालय, प्रशासन मस्त मरीज त्रस्त?

0
63


वाराणसी (ब्यूरो) पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय में व्याप्त भ्रष्टाचार के चलते जानबूझकर सीसी TV कैमरे बंद करने की सूचना मिली है | आरोप है कि कुछ कमरे तो खराब पड़े हैं और कुछ जानबूझकर बंद करा दिए गए हैं, कारण सिर्फ एक ही है कि हॉस्पिटल में दलालों का जमवाड़ा बढ़ गया है साथ ही हॉस्पिटल में होने वाली अनियमिताओं से संबंधित जानकारी की TV फुटेज में ना आ जाए इसके लिए जान बूझकर कैमरे बंद करा दिए गए हैं | हॉस्पिटल सहित आसपास चोरी की घटनाएं लगातार बढ़ गई हैं, हॉस्पिटल प्रशासन को जानकारी मिलने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हो पा रही है |

योगी सरकार के आदेशों के बाद भी हॉस्पिटल में कुछ डॉक्टर ऐसे हैं वह मरीजों को दवा बाहर से लिखते हैं, सीसीटीवी कैमरे इसलिए नहीं ठीक कराए जाते क्योंकि हॉस्पिटल की सारी कमियां कैमरे में कैद हो जाएंगी और हॉस्पिटल प्रशासन की पोल खुल जाएगी हॉस्पिटल में जीवन रक्षक दवाएं भी ज्यादातर गायब हैं |

कुछ मरीजों ने बताया कि जब हम लोग डॉक्टर से कहते हैं कि हॉस्पिटल की दवा लिख दीजिए तो कुछ डॉक्टर कहते हैं | यहां की दवा कोई असर ठीक से नहीं करती, जिंदगी बचानी है तो मेडिकल स्टोर से जाकर दवाई ले लो | मेडिकल स्टोर भी ऐसा बताते हैं जहां उनको अच्छा कमीशन मिलता है, अगर कहीं मरीज किसी दूसरे मेडिकल स्टोर से दवा लेकर डॉक्टर को दिखाया तो डॉक्टर साहब द्वारा तत्काल दवा वापस करा कर अपने बताए हुए मेडिकल स्टोर से ही दवा लेने के लिए फिर कहा जाता है सबसे ताज्जुब की बात तो यह है कि यहां के मुखिया डॉक्टर एस. के. उपाध्याय को सब कुछ जानकारी होने के बाद भी कोई ठोस कदम नहीं उठाया जाता है |

इस हॉस्पिटल की सीटी स्कैन मशीन कई महीनों से बंद पड़ी है, लोग बाहर से सीटी स्कैन कराने पर मजबूर है इधर कई दिनों से हॉस्पिटल तमाम अनियमिताओं के मकड़जाल में बंधा हुआ है | सब मिला कर देखा जाए तो हॉस्पिटल प्रशासन मस्त है और मरीज त्रस्त हैं | सम्मानित नागरिकों सहित मरीजों ने जिलाधिकारी वाराणसी का ध्यान आकृष्ट कराते हुए हॉस्पिटल में होने वाली अनियमितताओं को दूर करने की मांग की है |

रिपोर्ट – संतोष कुमार सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here