सरकारी पैसे से पंजाब सरकार के मंत्री कर रहे मौज, गाड़ियों पर खर्चे 100 करोड़ और |

0
916

prakash singh badal

पंजाब : आर. टी. आई . एक्टिविस्ट चरणजीत सिंह चन्नी के आवेदन पर पंजाब के ट्रांसपोर्ट विभाग द्वारा मुहैया जानकारी में यह बात सामने आई है कि पंजाब ट्रांसपोर्ट ने 2007 से 2015 के बीच पंजाब के सी.एम.प्रकाश सिंह बादल, डिप्टी सी.एम.सुखबीर सिंह बादल और पूरी कैबिनेट को सरकारी गाड़ियां मुहैया करवाने पर 97 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

चरनजीत सिंह चन्नी ने कहा कि बादल सरकार को लोगों के बीच आकर बीते 10 सालों के दौरान राज्य की वित्तीय मंदहाली और राज्य में लागू की गईं सामाजिक कल्याण स्कीमों पर खुली बहस करनी चाहिए। । चन्नी ने कहा कि राज्य फाइनेंशियल इमरजैंसी की ओर बढ़ रहा है और ऐसे समय में बादल, इनके मंत्रियों को दी जाने वाली गाड़ियों पर 97 करोड़ रुपए खर्च करना इन राजनेताओं की पंजाब के प्रति असंवेदनशीलता को बताता है |लेकिन बादल सरकारी खजाने के पैसे खर्च करके लग्जरी का आनंद उठा रहे हैं।

चन्नी ने खुलासा किया कि अंगहीन पैंशन स्कीम के तहत सरकार ने 2007 से 2016 तक सिर्फ 335.55 करोड़ रुपए ही खर्च किए है, इस योजना के तहत अबतक सिर्फ 11 लाख लाभपात्रों को ही फायदा पहुँचाया गया है |
चन्नी ने कहा कि इस राशि का 30 प्रतिशत से ज्यादा पूरी कैबिनेट की आरामपसंद जिंदगी का ध्यान रखने के लिए, उनकी गाड़ियों पर खर्च किया गया है।

आर.टी.आई. में यह भी हैरानीजनक खुलासा हुआ है कि एक साल के दौरान 2014-15 (151094 नंबर) से 2015-16 (146118 नंबर) तक करीब 5000 लाभपात्रों को हटाया गया है। चन्नी ने जवाब मांगा है कि क्या एक साल के दौरान 5000 व्यक्ति गुजर गए या फिर सियासी कारणों के चलते ऐसा किया गया। इसी तरह, 2.5 लाख से अधिक लाभपात्रों को बुढ़ापा पैंशन स्कीम से 2014-15 (1400347 नंबर) से 2015-16 (1156109 नंबर) तक हटा दिया गया। दाल में कुछ काला तो जरूर है। चन्नी ने कहा कि सत्ताधारी गठजोड़ के स्थानीय गुंडों द्वारा कांग्रेसियों को अपनी वफादारी बदलने या लाभपात्रों की लिस्ट से अपने नाम हटवाने के लिए धमकाया जा रहा है। सरकार ने बीते दस सालों के दौरान विधवा बेसहारा औरतों के कल्याण के लिए सिर्फ 653 करोड़ रुपए ही खर्च किए हैं जिसका 15 प्रतिशत से ज्यादा बीते 10 साल में पूरी कैबिनेट की गाड़ियों पर खर्च किया गया है।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here