अपनी जान की सुरक्षा के लिए पीडित लगा रही गुहार

0
70


कानपुर नगर-
प्रदेश ही नही देश में वर्तमान समय में महिलाओं के साथ अत्याचार आम बात हो चुकी है। सरकार के काफी प्रयासों के बाद महिलाओ पर घटित होने वाली घटनाये तथा प्रताडना कम नही हो रही है। दूसरी तरफ दूषित मानसिकता नयी-नयी घटनाओ को जन्म दे रहीं है। फिलहाल यदि समय पर इस ओर सख्त कदम नही उठाये गये तो बहन बेटियां कैसे सुरक्षित रहेगी। 127बी मदरिया थाना नौबस्ता की रहने वाली पीडिता सैफी बानो ने बताया कि उसका विवाह 2015 को बेगमपुरवा के शमशाद पुत्र अंसार अहमद के साथ हुआ था। विवाह के बाद उसे नौकरानी की तरह रखा जाता था और आये दिन उसके साथ मारपीट की जाती है।

पीड़िता ने बताया कि सास जशीमुन निशा, देवर नौशाद, इरशाद अरशद व उसके पति द्वारा उसके साथ क्रूरता की हदे पार दी गयी है, ससुरालियो द्वारा उसे आत्महत्या के लिए मजबूर किया जा रहा है, यहां तक जबरन पीडिता का गर्भपात भी करा दिया गया। ससुराली उसे रखना नही चाहते और अ बवह अपनी के पास चली आयी। बताया कि ससुराल के लोगों ने उससे व उसकी विधवा मां राबिया से जबरन सादे कागज व स्टाम्प पर स्ताक्षर करा लिया। बताया ससुराल वाले उसके पति को साउदी भेजने के लिए डेढलाख की मांग कर रहे है जो पीडिता की मां के पास नही है। इस सम्बन्ध में चौकी इंचार्ज बेगमपुरवा ने समझौता भी कराया था लेकिन उसके पति का अत्याचार कम नही हुआ। अब उसे दिनभर खाना नही दिया जाता, पीडिता को बेवज मारापीटा जाता है, विरोध करने पर तेजाब से नहलाने की धमकी दी जाती है। महिला ने शहर के अधिकारियों सहित शासन तक शिकायत पत्र भेज सुरक्षा की गुहार लगाई है।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY