राशन कालाबाजारी का खुलासा, सैकड़ों कुंतल अनाज बरामद

0
392

KOTEDAR

सफीपुर/उन्नाव (ब्यूरो)- सरकारी रासन कोटे की दुकानों में उचित मूल्य पर गरीबो को वितरित किये जाने वाला 2264 कट्टी गेहू और चावल बरामद। दरअसल आपको बता दें कि, राशन माफिया कोटेदारो व अधिकारियों कर्मचारियों की सांठ गाँठ से फलता फूलता रहता है यह कालाबाजारी का धंधा।

बताया जा रहा है कि गोदाम प्रभारी भी इस मामले मोटी रकम लेते है और अनाज को गोदाम से सीधे मिल भेज देते है|सफीपुर रेलवे स्टेशन रोड पर संचालित विनय गुप्ता की राईस मिल व आढ़त में जिलाधिकारी के दिशा निर्देश पर आज जिला पूर्ति अधिकारी नसीम अख्तर के नेतृत्व में गुप्ता राईस मिल पर मारे गए छापे में राशन का गेंहू 963 कट्टी, चावल 1301 कट्टी भरी बोरियां बरामद हुई।

पूर्ति अधिकारी ने कहा कि सरकारी राशन का गेंहू चावल है। मिल संचालक विनय गुप्ता कोई भी अभिलेख नहीं दिखा पाये कि ये राशन गेंहू चावल कहाँ और किस किसान खरीदा है। वही विनय गुप्ता का कहना है कि इस क्षेत्र की सबसे बड़ी फर्म हमारी है हमको राजनीति के चलते फसाया जा रहा है। गेहू और चावल हमारा है। सरकारी गोदाम से सीधे कोटेदार राशन नाफियाओ को गरीबो को मिलने वाला राशन गेहू चावल बेंच देते है और माफिया इस मिल में बेचते है ये गोरख धंधा कोई नया नहीं लगातार अर्से से चल रहा है।

तहसील पूर्ति विभाग में तैनात पूर्ति इन्स्पेक्टर व कर्मचारी अपना हिस्सा लेकर आँखे बंद कर गरीबो के हक़ के राशन की काला बाजारी कराने में लगे रहते है। गोदाम से प्रति माह करीब आधा ही राशन गाँव में वितरण के लिए जाता है आधा गोदाम पर ही खाद्यान्न माफियाओ के हाँथ कोटेदार बेच देते है। ये लाखो रूपये कमाने और गरीबो के हक़ पर डाका डालने का गोरखधंधा विभाग की मिलीभगत से चलाया जा रहा है ।

बताते चले एक बार पहले भी इसी मिल से करीब 3600 बोरी सरकारी गेंहू चावल बरामद हो चुका है किंतु कार्यवाही के नाम पर सब बराबर कर निपटा दिया गया था। इस बार भी कुछ ऐसा ही होगा ले देकर निपटाने में कोटेदार और राशन माफिया लगे है। बताते है कि ब्लाक क्षेत्र के सभी कोटेदार इस गोरख धंधे में शामिल है जो अपना राशन प्रतिमाह बेंचते है लेकिन उन कोटेदारो पर कोई कार्यवाही नहीं होती है।
रिपोर्ट- राम जी गुप्ता

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here