राजीव गांधी के हत्यारों को आज़ाद कर देना चाहती है जयललिता सरकार

0
230
rajiv-gandhiतमिलनाडु की सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के मामले में एक निर्णायक फैसला लिया है, जिसके तहत हत्या के आरोपियों की सजा कम करके उनके रिहा कर दिया जाएगा। उन्हें उम्र कैद की सजा सुनाई गई थी।
राज्य सरकार इस मामले में अब केंद्र सरकार की राय जानना चाहती है। इसके लिए तमिलनाडु सरकार ने केंद्रीय गृह मंत्रालय को पत्र लिखा है। गृह सचिव राजीव महर्षि के संबोधन में लिखे पत्र में तमिलनाडु के मुख्य सचिव के गणदेशकन ने लिखा है कि प्रदेश सरकार को सातों आरोपियों की ओर से याचिका मिली है। जिसमें उन्होने खुद को रिहा करने की मांग करते हुए लिखा है कि वो 20 वर्षों से जेल में बंद है। दोषियों में वी. श्रीहरन उर्फ मुरुगन, सांतन और एजी पेरारिवलन, जयाकुमार, रॉबर्ट पायस, रविचंद्रन और नलिनी श्रीहरिहरन हैं। आगे गणेशकदन ने लिखा है कि नलिनी ने पहले ही चेन्नई हाइ कोर्ट में अफनी रिहाई के लिए याचिका दायर कर दी है। राज्य सरकार सभी आरोपियों पर विचार करने के बाद उनकी सजा को कम करने का विचार कर रही है। राजीव गांधी की हत्या 21 मई 1991 में श्रीपेरंबदूर के निकट चुनाव रैली में हुई थी। 1998 में विशेष टाडा कोर्ट ने सातों आऱोपियों को दोषी मानते हुए सजा सुनाई थी।
 हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |
 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here