रजरप्पा महोत्सव के उद्घाटन की गूंज बासुकीनाथ तक पहुंची

0
69

झारखण्ड(ब्यूरो)– रजरप्पा महोत्सव के उद्घाटन की गूंज से बासुकीनाथ में सर्वत्र मातम पसरा हुआ है| चारों ओर बासुकीनाथ की उपेक्षा की चर्चा जोरों पर है| गत रोज रजरप्पा महोत्सव के दौरान मुख्यमंत्री रघुवर दास ने रजरप्पा और देवघर में तिरुपति के तर्ज पर सुविधा प्रदान करने का उल्लेख कर बासुकीनाथ में सनसनी फैला दी है| सभी वर्गों के लोग मुख्यमंत्री के इस दोहरे नीति से आहत मासूस कर रहे हैं| चौक चौराहे गली मोहल्ले से लेकर चाय पान की दुकान तक लोगों की जुबान पर मुख्यमंत्री के भेदभाव पर आधारित पॉलिसी की ही बात सुनने को मिल रही है| इस घोषणा से लोग सदमे में है मां नो बासुकीनाथ में भूचाल आ गया हो| इस संबंध में आम जनों की प्रतिक्रिया हिला देने वाली थी|

सभी लोग मुख्यमंत्री को आलोचना के केंद्र में रखकर स्थानीय सांसद व विधायक की खिल्ली उड़ा रहे थे| गए रोज की घोषणा पर तनकीद करते हुए बासुकीनाथ निवासी बीरबल राव का मत था कि संसद देवघर की माया जाल में फंसे हुए हैं और विधायक उद्घाटन शिलान्यास और फीता काटने में व्यस्त हैं| कुल मिलाकर बासुकीनाथ में आलोचना और प्रतिक्रिया का दौर दिन भर चलता रहा प्रतिक्रिया के इस लहर में लोग वार्ड पार्षद नगर पंचायत अध्यक्ष से लेकर मुख्यमंत्री तक को अपना निशाना बनाते रहे हकीकत यह है कि करोड़ों की कमाई करने वाले इस मंदिर की अनदेखी से लोगों की भावनाओं को जबरदस्त आघात पहुंचा है|

साथ ही विपक्षी दलों को अपनी राजनीति चमकाने के लिए बैठे बिठाए मुद्दा मिल गया है| गौरतलब है कि राज्य सरकार ने बासुकीनाथ को राजकीय मेला का दर्जा प्रदान कर विशिष्ट धार्मिक स्थलों की श्रेणी में लाकर पहले ही खड़ा कर दिया है| इसके बावजूद मुख्यमंत्री की बीते रोज की घोषणाओं में बासुकीनाथ को शामिल नहीं करना अचरज की बात है|

रिपोर्ट- धनंजय कुमार सिंह
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY