तीन वर्ष बाद पूरे दिन बंधेगी राखी, बन रहा है सिंहासन गौरी योग…

0
428

rakshabandhan

भाई-बहनों के प्यार का त्यौहार रक्षाबंधन पिछले तीन वर्षों से कुछ निश्चित समय के लिए होता था लेकिन इस बार सिंहासन गौरी योग के चलते पूरे दिन राखी बांधी जाएगी। ऐसे में दूर-दराज से आने वाले भाइयों के लिए बड़ी खुशखबरी है। विट्ठल जी महाराज ने बताया कि रक्षाबंधन पर्व पर इस बार भद्रा का साया नहीं पड़ेगा। तीन वर्ष के बाद यह संयोग बन रहा है। जब रक्षाबंधन के दिन लोगों को भद्रा काल देखने की जरूरत नहीं पड़ेगी। बहनें दिनभर शुभ मुहूर्तों में राखी बांध सकेगीं। साथ ही साथ इस बार सिंहासन गौरी योग के बनने से रक्षाबंधन का पर्व और भी विशेष रहेगा। विट्ठल जी ने बताया कि इस बार श्रावण शुक्ल पूर्णिमा रक्षाबंधन का पर्व भद्रा मुक्त रहेगा। क्योंकि भद्रा काल सूर्योदय होने से पहले ही समाप्त हो जाएगा। इस कारण बहने चाहें तो सुबह मुहूर्त में रक्षाबंधन कर सकती है। दोपहर व शाम को भी राखी बांधने के लिए शुभ मुहूर्त है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2013 में भी इस तरह के योग बने थे। उसके बाद इस वर्ष यह योग बन रहे हैं।

अयोध्या के विट्ठल जी महाराज ने बताया कि सिंहायन योग बनने से वैसे तो पूरे दिन राखी बांधी जा सकती है। लेकिन सुबह छह से साढ़े सात बजे तक, 10:30 से दोपहर 12 बजे तक, साढ़े चार बजे से शाम छह बजे तक व छह बजे से साढ़े सात बजे तक विशेष मुहूर्त है।

रिपोर्टर – राजाराम वैश्य (प्रतापगढ़)

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here