दुनिया के सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाले देश में सभी हैं राम भक्त और रामायण है धर्मग्रन्थ…

0
3628

rama

दुनिया भर में मुस्लिमों को एक कट्टरपंथी सोच और विचारधारा के जाना जा रहा है लेकिन दुनिया का सबसे बड़ा मुस्लिम आबादी वाला एक ऐसा भी देश है जिसका आज भी सबसे ज्यादा विश्वास भगवान् श्री राम में है जो कि हिन्दुओं के आराध्य है और भगवान् श्री राम के जीवन पर आधारित लिखे गए महापुराण रामायण पर | यह पूरा का पूरा मुस्लिम राष्ट्र रामायण का दीवाना | इस देश के जनमानस में कण-कण में राम समय हुए है | इस देश में राम की राजधानी अयोध्या भी और यह यहाँ की जनता की आस्था का केंद्र भी है | आइये आज हम आपको बताते है कि आखिर दुनिया का सबसे बड़ा मुस्लिम आबादी वाला वह देश कौन सा है जिसे भगवान् श्री राम इतनी अधिक दिलचस्पी है |

इंडोनेशिया की जनता के सबसे बड़े आराध्य है भगवान् श्री राम –
आपको बता दें कि जिस तरह से हर एक हिन्दुस्तानी के ह्रदय में भगवान् श्री राम के प्रति श्रद्धा, समर्पण और आस्था के भाव है ठीक उसी प्रकार से इंडोनेशिया जिसे दुनिया का मुस्लिम आबादी वाला सबसे बड़ा मुल्क कहा जाता है वहां के लोगों के लिए भी श्री राम ईश्वर का एक अंश है | ईश्वर का ही स्वरुप है | इंडोनेशिया के ज्यादातर लोग श्री राम को अपने जीवन का नायक मानते है उन्हें अपना आराध्य मानते है और रामायण यहाँ के लोगों के ह्रदय के सबसे समीप का ग्रन्थ है |

यहाँ के कण-कण में समाय हुए श्री राम-

indonesia
भगवान् श्री राम का दुनिया के इस चौथे सबसे बड़ी आबादी वाले मुल्क इंडोनेशिया में इतना अधिक प्रभाव है कि आज भी यहाँ के जंगलों, नदियों, पहाड़ों यहाँ तक की कहीं भी कण-कण में राम कथा से सम्बंधित चित्रों की नक्कासी आपको देखने को मिल जायगी |

यहाँ भी होती है राम लीला –
इंडोनेशिया ने वर्ष 1973 में अंतर्राष्ट्रीय रामायण सम्मलेन का आयोजन करवाया था | इस सम्मलेन में दुनिया भर के देशों ने भाग लिया था | यह सम्मलेन दुनिया का सबसे भव्य और अनूठा सम्मलेन था क्योंकि पहली बार किसी मुस्लिम राष्ट्र ने हिन्दुओं के सबसे पवित्र महापुराण रामायण पर आधारित कोई आयोजन करवाया था |

इंडोनेशिया का सर्वाधिक लोकप्रिय ग्रन्थ है रामायण –
बताते चले कि इंडोनेशिया जो कि दुनिया का चौथा सबसे बड़ा मुल्क है और यह दुनिया का सबसे बड़ा मस्लिम राष्ट्र है यहाँ का सबसे लोकप्रिय ग्रंथ रामायण है | यहाँ पर भगवान् श्री राम की राजधानी अयोध्या भी है लेकिन यहाँ अपर अयोध्या को योग्या के नाम से जाना जाता है | यहाँ पर राम कथा को ककनिन और रामयण को काकनिन रामायण कहा जाता है | भारत में जहां रामायण की रचना महर्षि वाल्मीकि ने की है वही इंडोनेशिया में रामायण की रचना योगेश्वर महाराज ने की है |

कावी भाषा में हुई है रामायण की रचना –
आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें कि जहां भारत में रामायण की रचना दुनिया की सबसे प्राचीन भाषा संस्कृत में हुई है वही इंडोनेशिया में रामायण की रचना कावी भाषा में हुई है | दरअसल आपको बताते चले कि कावी जावा की सबसे प्राचीन शास्त्रीय भाषा है और इस भाषा में काकविन का अर्थ होता है महाकाव्य |

इंडोनेशिया मोदी सरकार से हर साल रामायण पर्व के आयोजन की कर रहा है मांग –
इंडोनेशिया में रामायण, राम, सीता, हनुमान और लक्षमण जी इतने प्रसिद्द और लोकप्रिय है कि यहाँ साल भर अलग-अलग स्थानों पर रामायण पर आधारित अनेकों कार्यक्रम होते ही रहते है | इतना ही नहीं इंडोनेशिया की सरकार केंद्र की मोदी सरकार से यह अपील भी कर रही है कि भारत में हर साल रामायण पर्व का आयोजन किया जाय | साथ ही इंडोनेशिया की सरकार ने यह भी निवेदन किया है कि इंडोनेशिया में जिस तरह से रामायण का मंचन किया जाता है उसे भारत के अलग-अलग शहरों में दिखाने की अनुमति भी दी जाय साथ ही भारत में जो राम लीला दिखाई जाती है उसे इंडोनेशिया के अलग-अलग शहरों में दिखाया जाना चाहिए |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here