भीमदभागवत पुराण, मानस प्रवचन तथा गीता प्रवचन के साथ रासलीला का किया गया मंचन

0
131


जालौन। ग्राम हरीपुरा में चल रहे श्रीहरि हरात्मक पंच कुंडीय महायज्ञ के दूसरे दिन भीमदभागवत पुराण, मानस प्रवचन तथा गीता प्रवचन के साथ रासलीला का मंचन किया गया। जिसमें गांव के अलावा आसपास के लोगों ने पहुंचकर धार्मिक आयोजन में सहभागिता की।
धार्मिक आयोजन के दूसरे दिन भगवताचार्य स्वामी अनुरागीजी ने दूसरे दिन की कथा का श्रवण कराते हुए कहा कि भगवान दुष्टों का संहार करते हैं और भक्तों का उद्धार करते हैं। जो व्यक्ति श्रीमद भगवत गीता को सुनता है अथवा उसका अनुकरण करता है, उसे जीवन मरण से मुक्ति मिलती है। इसलिए जब भी अवसर मिले कथा को अवश्य ही सुनना चाहिए और उसका अपने जीवन में अनुकरण भी करना चाहिए। तो वहीं, महायज्ञ पंडाल में चल रही रासलीला के मंचन के कार्यक्रम में भगवान श्रीक्रष्ण के जन्म के बाद मथुरा में नंदबाद के घर पहुंचकर उनके नामकरण और बाल लीलाओं का मंचन किया गया। यज्ञाचार्य शिवशंकर दास जी ने श्रीहरि हरात्मक पंच कुंडीय महायज्ञ में दूसरे दिन की आहूतियों को कराया। मानस प्रवचनकर्ता बटुकजी महाराज ने भगवान श्रीराम के जन्म की कथा के साथ मर्यादा पुरूषोत्तम के जन्म के उददेश्यों के बारे में बताया। सुबह से लेकर देर रात तक चल रहे धार्मिक आयोजन में हरीपुरा के अलावा जगनेवा, सारंगपुर, प्रतापपुरा, महिया, हीरापुरा, कुदरा समेत आसपास के गांव के भक्त पहुंच रहे हैं और धार्मिक आयोजन में भक्ति रस में सराबोर हो रहे हैं। इस मौके पर पारीक्षित किशुनलाल, दूधाधारी महाराज, डाॅक्टर बाबा, अनुरूद्ध कुमार त्रिपाठी, सनकादिक वैदेही शरण त्यागी, बालक्रष्ण शास्त्री, अजय पाल सिंह, भगवती शरण मिश्रा, डाॅ. आशीष कुमार, रामनरेश, चंद्रमोहन, विनोद कुमार, मिथलेश मिश्रा, दिलीप कुमार, रामकरन, प्रताप नारायण, ओमकार, श्यामकरन, अजय कुमार समेत सैंकड़ों लोग उपस्थित रहे।
रिपोर्ट- अनुराग श्रीवास्तव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here