रसूलपुर मे गुरू दक्षिणा कार्यक्रम हुआ सम्पन्न

0
43

लालगंज/रायबरेली (ब्यूरो)- राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के तत्वाधान मे रसूलपुर गांव मे श्रीगुरू पूजन कार्यक्रम आयोजित किये गये। इस अवसर पर स्वयंसेवकों के द्वारा बडे ही श्रद्धा व सम्मान के साथ परम पवित्र भगवत ध्वज का पूजन अर्चन किया गया।

श्री गुरू पूजन कार्यक्रम मे रसूलपुर गांव के सैकडों स्वयंसेवकों ने भगवत ध्वज को नमन किया है। श्री गुरूपूजन कार्यक्रम के मुख्य वक्ता सुसील शुक्ला ने भगवत ध्वज की प्राचीन महिमा का वर्णन करते हुये कहा कि संघ ने भगवत ध्वज को अपना गुरू माना है। संघ का गुरू कोई व्यक्ति नही, सांस्कृतिक परम्परा का प्रतीक भगवत ध्वज है।

भगवत ध्वज त्याग का प्रतीक है, पवित्रता का चिन्ह, पराक्रम की निानी है। भगवत ध्वज मे भगवान सूर्यदेव का तेज समाया हुआ है। पूर्व सहजिला कार्यवाह सुसील शुक्ला ने संघ कार्य पद्धति के विषय मे बताया कि संघ कार्यकर्ता एक स्वयंसेवक के रूप मे राष्ट्र व समाज के लिये बिना किसी स्वार्थ व अपेक्षा के कार्य करता है।

संघ कार्य ही मातृ भूमि की सेवा के लिये है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ शाखाओं के माध्यम से राष्ट्र हित मे अनवरत कार्य करने वाला सामाजिक एवं सांस्कृतिक संगठन है। वहीं श्रीगुरू दक्षिणा के मौके पर गुरू की महिमा का बखान करते हुये सुसील शुक्ला ने कहा कि प्रत्येक मानव के जीवन मे भी सद्गुरू का होना परम आवस्यक है। गुरू मार्ग दर्सक की भूमिका भी अदा करता है। गुरू ही सुख दुख मे सदबुद्धि देता है। इस मौके पर अनूप पाण्डेय, मुन्नू तिवारी, राकेस यादव, महेस तिवारी, सुखराम सहित अन्य स्वयंसेवक मौजूद रहे।

रिपोर्ट- अनुज मौर्य /सुशील शुक्ला 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY