गरीबों के मुंह का निवाला छीन रहे राशन माफिया

0
231

चकलवंशी/उन्नाव(ब्यूरो)- गांवों में गरीबों को मिलने वाला राशन की कालाबाजारी बङे पैमाने पर हो रही है जिसको रोकने में योगी सरकार नाकाम दिखाई दे रही है| इसी तरह पूर्व सरकार की तरह अधिकारियों व राशन माफियाओं की मिलीभगत से प्रति महीना लाखों रुपये का बंदर-बांट किया जा रहा है, जिससे आने वाले लोक सभा चुनाव 2019 में विपरीत प्रभाव पङ सकता है|

आज तहसील दिवस में राशन कार्ड धारकों को राशन न मिलने व राशन मूल्य से अधिक मिलने के कारण ग्रामीणों ने लिखित शिकायत की गयी जिससे जिलाधिकारी ने कहा कि संबंधित शिकायत की जांच करवाकर कार्यवाही की जाएगी।

तहसील हसनगंज विकास खंड मियांगंज क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत मवई बृम्हनान निवासी राम प्रकाश, अनिल, धीरेन्द्र, मोहित कुमार, अशोक, लाला, दिनेश, अनुज, विपिन आदि दर्जनों राशन धारकों ने आज तहसील दिवस में जिलाधिकारी अदिति सिंह को लिखित प्रार्थना पत्र दिया गया और जांच कराकर कार्यवाही की मांग की है। गांव में गरीब कार्ड धारकों को राशन नहीं मिल रहा है प्रार्थीगण के यहाँ ग्राम पंचायत में कोटा दुकान संख्या-100100200043 मौला बक्श के नाम से है लेकिन कोटा वितरण राशन माफिया गुङाकेश गौङ करते है जिनका राशन गोदाम मियांगंज पर कब्जा कायम है जो 74 ग्राम पंचायतों की राशन दुकानदारों का राशन की कालाबाजारी गोदाम से कई जा रही है गांवों में अंत्योदय राशन कार्ड पर गेहूं व चावल 35 किलो निर्धारित है लेकिन 30 किलो वितरण किया जाता है, जिसमें भी घटतौली बङे पैमाने पर किया जा रहा है| सरकार द्वारा सरकारी राशन का दाम निश्चित किया गया, उसके बाद भी गेहूं व चावल 3 रूपये में दिया जा रहा है| केरोसिन का तेल अंत्योदय कार्ड पर 4 लीटर निर्धारित है लेकिन किसी को एक लीटर व दो लीटर से ज्यादा नहीं दिया जाता है| वह भी घटतौली में कम देता है और 22 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से वितरण करता है| कोटेदार बहुत बड़ी धांधली कर रहा है इस प्रकार ग्राम पंचायत की जनता बहुत परेशान हैं।

लोगों का कहना है कि कोटेदार से कुछ कहने पर वह दबंगई से पेश आता है और कहता है कि अगर कुछ बचायेंगे नहीं तो ऊपर के अधिकारियों को क्या खिलायेंगे सरकार को भी अपनी धांधली में बदनाम कर रहा है तथा अधिकारियों पर भी छींटाकशी कर रहा है इस प्रकार प्रार्थीगण कोटेदार की कार्यशैली व धांधली से क्षुब्ध होकर श्रीमान जिलाधिकारी महोदया जी को प्रार्थना पत्र जांच एवं आवश्यक कार्यवाही किये जाने हेतु दे रहे है|

ग्रामीणों ने आरोप लगाया है कि जब कोटेदार के पास राशन लेने जाते है तो पीङितों को राशन कम दिया जाता है जिसका विरोध करने पर राशन भी नहीं देते है और दुकान से भगा देते हैं कहते है कि तुम हमारा कुछ नहीं कर पाओगे क्योंकि हम हर महीने में सप्लाई इंस्पेक्टर भाष्कर पाण्डेय व एसडीएम तथा सफीपुर विधायक को देते हैं अतः ग्रामीणों ने तहसील दिवस में जिलाधिकारी जी को लिखित शिकायत की है| इस संबंध में अश्वासन मिला है कि जांच कराकर कोटेदार मवई बृम्हनान के धांधली के विरुद्ध दण्डात्मक कार्यवाही करके कोटा निरस्त किया जायेगा और उसके बाद कोटे की नई दुकान का चयन किया जायेगा।

रिपोर्ट- जितेन्द्र गौड़ 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here