कानून व्यवस्था सुधारने के लिए भारती प्रक्रिया तेज

0
66


लखनऊ (ब्यूरो) उत्तर प्रदेश में पटरी से उतर चुकी कानून व्यवस्था को दुरुस्त करने में जुटी पुलिस को सिपाहियों व दरोगाओं की कमी से जूझना पड़ा रहा है। पुलिस भर्ती बोर्ड ने जहां भर्तियों का सिलसिला तेज कर दिया है, वहीं प्रमोशन के साथ ही ऑनलाइन परीक्षा पर जोर है, ताकि पारदर्शिता के साथ भर्तियां जल्द पूरी हो सकें

प्रदेश में वैसे तो पुलिस कर्मियों की दशकों से कमी है। हैरत तो यह है कि वर्ष 2008 में पहले सिपाहियों दरोगाओं की प्रदेश में भर्ती की कोई नियमावलीही नहीं थी। वर्ष 2008 में 1.50 लाख सिपाहियों को भर्ती शुरू हुई लेकिन दस साल में सिर्फदो बार पहले करीब 35 हजार और सपा सरकार में 40610 सिपाहियों की भर्तियों हो सकीं। यहां तक की सात साल हो गए हैं और 4010 सब इंस्पेक्टरों की भर्ती कानूनी दांवपेंच में फंसी

शुरू की गई ऑनलाइन परीक्षा भर्ती बोर्ड के डीजी डॉ सूर्य कुमार कहते हैं कि भर्ती में पारदर्शिता और फर्जीवाड़ा कम करने के लिए ऑनलाइन परीक्षा शुरू की गई है। नए सिरे से 3367 दरोगाओं की भर्ती के लिए ऑनलाइन परीक्षा 17 से 31 जुलाई तक 59 जिलों में कराई है |

रिपोर्ट – मिंटू शर्मा

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY