20 लाख से कम व्यवसाय वाले व्यापारियों को पंजीकरण कराना अनिवार्य

0
110

रायबरेली (ब्यूरो) जीएसटी में बीस लाख से कम टर्न ओवर वाले व्यापारियों के लिए पंजीकरण एैच्छिक है। उसके ऊपर के टर्न ओवर पर पंजीकरण अनिवार्य है। कपड़ा व्यापारियों के जीएसटी दायरे में आने के बाद आ रही समस्याओं भ्रम को दूर करने के लिए वाणिज्य कर विभाग ने उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मण्डल के सहयोग से कपड़ा व्यापारियों के लिये वाणिज्य कर भवन में संगोष्ठी आयोजित की।

संगोष्ठी में उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मण्डल के जिलाध्यक्ष बसन्त सिंह बग्गा ने कपड़ा व्यापारियों के समक्ष आ रही समस्याओं का विस्तार से विवरण दिया, जिस पर उपायुक्त वाणिज्य कर सत्येन्द्र गौतम ने बताया कि छूट के दायरे से बाहर व्यापारियों के लिए पंजीकरण एैच्छिक है, उन पर अनावश्यक दबाव नहीं बनाया जायेगा। माल की खरीद व परिवहन के लिए वह पंजीकरण प्राप्त कर सकते, वहीं बीस लाख से ऊपर व्यवसाय वालों के लिए पंजीकरण अनिवार्य है।

सहायक आयुक्त वाणिज्य कर शैलेन्द्र मौर्य ने कहा कि व्यापारियों के मध्य भ्रम की स्थित है, उन्होनें कहा कि जीएसटी मित्र अधिनियम (फ्रेण्डली कर कानून) है, इससे व्यापारियों के उत्पीड़न की स्थित शून्य रहेगी, विभाग हर सम्भव सहयोग प्रदान करेगा। सहायक आयुक्त पूनम सिंह ने कहा कि सभी व्यवस्थाएँ आनलाइन है, इसमें सीधे पंजीकरण, समर्पण व लेखा की व्यवस्था के साथ खरीद या बिक्री के मिस्मैच पर सुधार की सभी व्यवस्थायें आनलाइन उपलब्ध हैं। कार्यालय में चक्कर लगाने की किसी भी व्यापारी को आवश्यकता नहीं पड़ेगी। अधिकारी ने व्यापारियों की समस्याओं व प्रश्नों का लगभग तीन घण्टे तक सरलता से उत्तर देकर समस्याओं का समाधान किया। संगोष्ठी में में जिला महामन्त्री जावेद अहमद खान, नगर अध्यक्ष मनोज गुप्ता, जिला प्रभारी टास्क फोर्स मुकेश रस्तोगी, गुरजीत सिंह तनेजा, जीसी सिंह चौहान, श्याम रस्तोगी, राम बाबू गुप्ता, शैलेश गुप्ता, राकेश गुप्ता, कुलतार सिंह, अतुल श्रीवास्तव, विजय सोनकर, दिलीप सिंह, अश्वनी श्रीवास्तव आदि लोग उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – अनुज मौर्य

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY