पाकिस्तान को F-16 लड़ाकू विमान बेचने पर, सीनेटर ने किया विरोध, कहा ISI है आतंकियों

0
651

अमेरिका – ओबामा सरकार के पाकिस्तान को F-16 लड़ाकू विमान बेचने वाला फैसला मुश्किल में पड़ता हुआ नजर आ रहा है I अमेरिकी रिपब्लिकन पार्टी के सांसद मैक्केन ने इस फैसले के विरोध में एक जॉइंट रिजोल्यूशन पेश किया है I इस रिजोल्यूशन में कहा गया है कि पाकिस्तानी सेना और पाकिस्तानी खुफियां एजेंसी आतंकियों की मददगार है उसे हमें इस तरह के सामानों की विक्री पर तुरंत रोक लगा देनी चाहिए I

आपको यह भी बता दें कि न केवल सीनेटर ने ही ओबामा प्रशासन के खिलाफ मामले को उठाया है बल्कि इसके अलावा फॉरेन रिलेशन कमेटी भी उठा चुकी है डील पर सवाल I

इसे भी पढ़ें – आतंकवाद पर पाकिस्तान की नीयत साफ़ नहीं : अमेरिका

रिपब्लिकन सीनेटर मैक्केन ने कहा कि ओबामा प्रशासन को इस निर्णय के बारे में स्पष्टीकरण देना होगा क्योंकि इससे भारत अमेरिका संबंधों में जटिलता आ गई है। उन्होंने कहा कि ऐसे समय में जब अमेरिका एशिया प्रशांत क्षेत्र में अपना वर्चस्व बनाए रखने के अपने प्रयासों के तहत भारत के साथ रक्षा संबंध सुधारने में जुटा है तब ऐसे फैसले से भारत अमेरिका संबंधों में जटिलता आ सकती है।

इस बीच अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता डेविड मैकिबी ने कहा कि पाकिस्तान को एफ-16 की प्रस्तावित बिक्री से पाकिस्तान को आतंकवाद विरोधी अभियानों में मदद मिलेंगी और यह पाकिस्तान, अमेरिका, नाटो और क्षेत्र के हित में है। उन्होंने कहा कि विदेश विभाग को इस फैसले के बारे में सांसदों की चिंताओ के बारे में जानकारी है और सांसदों के साथ इस मुद्दे पर चर्चा की जाएगी।

अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने किया है बचाव –
अमेरिका के विदेशमंत्री जॉन कैरी ने पाकिस्तान को F-16 लड़ाकू विमान बेचे जाने का बचाव किया है I जॉन कैरी ने कहा है कि पाकिस्तानी सेना की कार्यवाही के चलते पाकिस्तान से आतंकी नेटवर्क के पैर उखड रहे है I जॉन कैरी के अनुसार पाकिस्तान का कबायली क्षेत्र पहले आतंकियों का सबसे बड़ा पनाहगार हुआ करता था लेकिन अब वहां पर ऐसा कुछ भी नहीं है I लेकिन उन्होंने यह भी कहा है कि हालाँकि पाकिस्तान ने काम किया है फिर भी अभी भी बहुत कुछ करना बाकी है I

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here