सेवानिवृत्त मुस्लिम अध्यापक ने सारी जमापूंजी लगाकर बनवाया माँ सरस्वती का मंदिर

0
206

वोरा मरीदा गाँव के एक सेवानिवृत्त स्कूल टीचर जो की अपने शिक्षण और संस्कारों के लिए जाने जाते है, गाँव के बच्चे उन्हें अब्दुल चाचा कहकर बुलाते हैं |

वोरा जब एक PTC कॉलेज में ट्रेनिंग कर रहे थे तो वहां बने माँ सरस्वती के मंदिर से बहुत  प्रभावित थे और तभी से उनके मन में गाँव में एक माँ सरस्वती का मंदिर बनाने की इच्छा थी और उसी के चलते उन्होंने मरीदा गाँव के स्कूल परिसर में माँ सरस्वती का एक मंदिर बनवाया है वोरा कहते हो यह मंदिर बच्चों को प्रेरणा देगा मै सबसे पहले एक टीचर हूँ और वही करूंगा जो इन नन्हे फरिस्तों के लिए अच्छा हो | वोरा ने अपनी सारी जमा पूँजी मंदिर बनवाने में लगा दी मंदिर को बनने में पूरे ५ साल लगे गाँव के लोगों ने भी मंदिर बनवाने में सहयोग दिया |

Abdul Vora

Photo Credit – TOI

सिर्फ इतना ही नहीं अब वोरा स्कूल के बच्चों को रोज मंदिर में पूजा और प्रार्थना करना भी सिखाते हैं |

अब्दुल वोरा का जन्म नदिअद के निकट अंधारी गाँव में हुआ था और उनका परिवार गाँव के तीन मुश्लिम परिवारों में से एक था |

गाँव का प्रत्येक व्यक्ति वोरा का सम्मान करता है, एक टीचर के तौर पर वोरा ने स्कूल की सेवा और अब वो गाँव की सेवा में लगे हैं  |

अखंड भारत  गाँव के सभी लोगों और अब्दुल चाचा की एकता की सराहना करता है और प्रार्थना करता है की सम्पूर्ण विश्व इस एकता से सबक लेकर इसी सौहार्द से जीवन व्यतीत करे

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

five × five =