जिलाधिकारी का राजस्व वसूली पर जोर

0
93


सोनभद्र(ब्यूरो)-
मानक के मुताबिक वसूली के लक्ष्य को पूरा किया जाय। तहसील स्तरों पर 10-10 बड़े बकायेदारों पर वसूली की कार्यवाही की जाय। आर0सी0 का नियमित मिलान कराने के साथ ही सरकारी जमीनों को सुरक्षित किया जाय।
उक्त निर्देश जिलाधिकारी प्रमोद कुमार उपाध्याय ने कलेक्ट्रेट मीटिंग हाल में बृहस्पतिवार को मासिक स्टाफ समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए दिये। जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारियों व तहसीलदारों के साथ ही कर-करेत्तर से जुड़े अधिकारियों को दायित्वबोध कराते हुए कहा कि 31 मार्च तक अपने वसूलयाबी में सुधार लायें। उन्होंने मत्स्य पालन के लिए ग्राम समाजों के तालाबों का आवंटन करने, माननीय न्यायालयों में लम्बित प्रकरणांं का निस्तारण समय से कराने, श्रमिकों का स्वास्थ्य परीक्षण कराने, जिले में बिजली ताड़क यंत्र लगाये जाने, सालिडबेस मैनेजमेन्ट की व्यवस्था करने के निर्देश सम्बन्धितों को दिये।

जिलाधिकारी ने कहा कि उप जिलाधिकारी व तहसीलदार अपने अमीनों पर पूरी निगाह रखें और नायब तहसीलदारों के साथ ही खुद वसूली व आर0सी0 में दिलचस्पी लें। जिलाधिकारी श्री उपाध्याय ने 15 दिनों का अभियान चलाकर पुरानी खतौनियों को जमा कराने का निर्देश देने के साथ ही कहा कि आम आदमी बीमा योजना व कृषक दुर्घटना बीमा योजना के लम्बित प्रकरणों को निस्तारण किया जाय। उन्होंने उप जिलाधिकारियों, जिले के अधिशासी अधिकारियों, क्षेत्रीय अधिकारी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को निर्देशित किया कि प्रतिबन्धित पोलोथीन के रोक-थाम के लिए अभियान चलाकर प्लास्टिक के पोलोथीन के इस्तेमाल को रोका जाय और जॉच के दौरान पोलोथीन बेचने वालों के खिलाफ भी प्रभावी कार्यवाही किया जाय। उन्होंने कहा कि प्लास्टिक के बैग/पोलोथीन के रोक-थाम के लिए प्रवर्तन कार्य किये जाय और सम्बन्धितों के खिलाफ कार्यवाही की जाय।

समीक्षा बैठक में वाणिज्य कर विभाग की प्रगति खराब पाये जाने पर जिलाधिकारी ने पूरे विवरण के साथ देर शाम तक सम्बन्धितों को तलब किया और निर्देशित किया कि परिवहन विभाग, वाणिज्य कर विभाग, आबकारी विभाग, खनिज विभाग व मण्डी कर आदि के अधिकारियों के साथ ही उप-जिलाधिकारी भी प्रवर्तन कार्य करके राजस्व वसूली में तेजी लायें। उन्होंने कहा कि स्टाम्प व्यय पर विशेष ध्यान दिया जाय और वसूली के लक्ष्य को पूरा करने के लिए हर कोशिश की जाय।
समीक्षा बैठक में कर करत्तेर, मुख्य देयों एवं विविध देयों की वसूली की समीक्षा करते हुए कहा कि राजस्व विभाग के विविध देयों के सभी मदों के वसूली लक्ष्य के सापेक्ष उपजिलाधिकारी व तहसीलदार पूरा करें। उन्होंने मौके पर मौजूद अपर जिलाधिकारी राम चन्द्र से अपेक्षा की कि वे राजस्व वसूली की नियमित समीक्षा करते हुए वसूली में रूचि न लेने वाले अमीनों के खिलाफ प्रभावी कार्यवाही करें और जो अमीन बेहतर वसूली कार्य कर रहे हैं, उनका हौसला भी बढ़ाया जाय। जिलाधिकारी ने कहा कि विभिन्न स्तरों के संदर्भों, राजस्व परिषद संदर्भ, शासन संदर्भ, मण्डलायुक्त संदर्भ, के साथ ही मुलाकाती संदर्भों का गुणवत्ता पूर्ण निस्तारण करते हुए सम्बन्धित को अवगत कराया जाय। गुणवत्ता पूर्ण निस्तारण के रेण्डम जॉच भी की जाय।

बैठक में जिलाधिकारी प्रमोद कुमार उपाध्याय के अलावा अपर जिलाधिकारी राम चन्द्र, प्रभागीय वनाधिकारी,सोनभद्र एस0बी0एस0 सिंह, डिप्टी कलेक्टर विशाल यादव, प्रेम प्रकाश अंजोर, उप जिलाधिकारी सदर अशोक सिंह यादव, घोरावल डी0पी0 सिंह, बन्दोबस्त अधिकारी चकबन्दी मधुसूदन दूबे, एआरटीओ श्री राय, खनन अधिकारी पी0के0 सिंह, तहसीलदार नन्दलाल सिंह, प्रशासनिक अधिकारी अशोक कुमार शाक्य सहित अन्य सम्बन्धितगण मौजूद रहें।

रिपोर्ट- जमीर अंसारी
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here