देश के सभी राजघरानों के पास भी इतना धन नहीं होगा जितना अकेले इन भगवान् के पास हैं

0
1120

 

भारत एक ऐसा देश हैं जहाँ धर्म और आस्था का बोलबाला हमेशा से ही रहा हैं I आज भी यहाँ लोगों के अन्दर भगवान के प्रति आस्था, विश्वास और श्रद्धा असीमित है | हिमाचल प्रदेश का एक ऐसा राज्य है जिसे देव भूमि के नाम से जाना जाता हैं I हिमाचल प्रदेश के प्रति आदिकाल से ही मान्यता है कि यहाँ  33 करोड़ देवी-देवता निवास करते है | इसलिए इस प्रदेश को समूचे विश्व में देव भूमि के नाम से जाना जाता है |

 

33 करोड़ देवतओ वाले इस प्रदेश में बहुत से ऐसे देव स्थान हैं, मंदिर हैं जिनका पुरातन काल से ही बहुत महत्व है | इन्ही देवताओं (मंदिरों) में से एक है कमरुनाग देवता का मंदिर !

कहा जाता हैकि यह मंदिर एक ऐसा मंदिर हैं जोकि पुरातन काल से ही अपने आप में बहुत धनवान है क्योकि यहाँ पर इस मंदिर में हमेशा से असीमित सोना, चांदी, रुपया, पैसा और अन्य धातुओं का भण्डार हैं I

कमरुनाग देवता का मंदिर हिमाचल प्रदेश के मंडी जिला की खूबसूरत वादियो से घिरे हुए गाँव रोहान्दा से 8 किलोमीटर की दूरी पर समुद तल से लगभग 3334 (10,000 फीट) मीटर की ऊंचाई पर चीड और  देवदार तथा अनेकोअनेक कीमती वृक्षों के जंगल के मध्य में स्थित है |

कमरुनाग मंदिर
कमरुनाग मंदिर

ऐसी मानयता है के कमरुनाग देवता की झील में करोड़ों रुपयों का खजाना छुपा है | कमरुनाग देवता भीम के बेटे घटोत्कच और मारुरै के पुत्र थे | कहा जाता है के कमरुनाग देवता के पास भारत के सबसे धनी कहे जाने वाले राजघराने डोडिया खेडा से भे ज्यदा का खजाना इनकी झील में छुपा है | कमरुनाग जाने वाले रास्ते की घाटी बहुत ही रोचक है, यहाँ आने वालो को रास्ते में बहुत ही दुर्लभ फूल और  बहुत से ऐसे पौधों के दर्शन प्राप्त होते है जो अपने आप में बड़े ही दुर्लब है |

The Kamrunag Temple

कहा जाता है यहाँ पर घाटी में 1 ऐसा दुर्लभ वृक्ष है जिस की मान्यता है की इस वृक्ष में अदभुत जटाएं है जो पुरातन काल में माता सीता की जटाएं जैसे थी | कमरुनाग देवता को देवभूमि में इसलिए भी पूजा जाता है ताकि प्रदेश में ऋतुओं का आगमन ठीक से हो तथा खुशहाली और समृधि हमेशा बनी रहे I

photo source -tarungoel.in

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY