ऋण मोचन योजनान्तर्गत जिलाधिकारी ने की बैठक

0
148

रायबरेली (ब्यूरो)- जिलाधिकारी अभय सिंह की अध्यक्षता में फसली ऋण मोचन योजनान्तर्गत बैठक बचत भवन सभागार में सम्पन्न हुई।

बैठक में योजना के लिए आर्हता सूची को अन्तिम रूप देने की चर्चा की गई। फसली ऋण मोचन योजनान्तर्गत शासन से प्राप्त कृषक सूची का सत्यापन राजस्व विभाग एवं बैंक शाखाओं द्वारा किया जा रहा है। जिलाधिकारी ने निर्देश देते हुए कहा कि सत्यापन अत्यन्त गम्भीरता से किया जाये।

सत्यापन में किसी प्रकार की लापरवाही बरती नहीं जायेगी। जिलाधिकारी ने कहा कि योजना का लाभ पात्र कृषकों को ही मिले तहसील के कर्मचारियों एवं लेखपालों को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि सत्यापन के दौरान कोई गलत डाटा आये अथवा अपात्रो को लाभ मिला तो सम्बन्धित के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी। सभी तहसीलदार डाटा को सत्यापित करेंगे। सत्यापन के दौरान अभी तक जो आकड़े प्राप्त हुए है उसमें 1854 कृषक ऐसे है जिनका ऋण 3 लाख से ऊपर है, 6703 किसानों ने एक ही आधार पर दो बार केसीसी पर ऋण लिया है।

9861 किसानों कागजात भूलेख और बैंक एकाउण्ट से मेल नही खाते, 5451 किसानों दूसरे जिलों से भी ऋण ले रखा है। 7726 मामलों में गाटा व आधार संख्या एक ही है। 16074 किसानों का खाता आधार से लिंक नही है। 3973 किसानों का गाटा प्राप्त नही हो सका है। जिलाधिकारी ने सूची में सम्मिलित सभी किसानों का बारीकी से सत्यापन करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा सत्यापन में कोई बिन्दु छूटने न पाये। शासन द्वारा निर्धारित मानकों पर सत्यापन किया जायेगा तथा पात्र किसानों को ही योजना का लाभ दिया जायेगा। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी देवेन्द्र कुमार पाण्डेय, अपर जिलाधिकारी (वि0 एवं रा0) राजेश कुमार प्रजापति, अपर जिलाधिकारी (प्रशा0) तिलकधारी एवं समस्त उपजिलाधिकारी एवं अन्य अधिकारी उपस्थि-त रहें।

रिपोर्ट- राजेश यादव

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here