प्राकृतिक संतुलन के लिए अधिक से अधिक वृक्ष लगायें : मुकुट बिहारी वर्मा

0
60

बहराइच (ब्यूरो) पंडित दीन दयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी के शुभ अवसर पर बहराइच वन प्रभाग, बहराइच द्वारा विकास खण्ड रिसिया अन्तर्गत जूनियर हाईस्कूल मोहम्मदपुर हुसैनपुर में आयोजित वन महोत्सव कार्यक्रम के दौरान मुख्य अतिथि प्रदेश के सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा के साथ विधायक महसी सुरेश्वर सिंह, विधायक बलहा अक्षयबर लाल गौड़, विधायक पयागपुर सुभाष त्रिपाठी, जिलाधिकारी अजय दीप सिंह, मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार व अन्य गणमान्यजनों द्वारा विधिवत पूजा अर्चना के पश्चात वृक्षारोपण कर वन महोत्सव का शुभारम्भ किया। जनपद में 1172 हे. क्षेत्रफल में 11.68 लाख पौधे रोपे जायेंगे जिसमें वन विभाग द्वारा 856 हे. में 8.20 लाख पौधांे तथा अन्य विभागों द्वारा 316 हे. में 3.48 लाख पौधों का वृक्षारोपण किया जायेगा। 

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि श्री मुकुट बिहारी वर्मा ने कहा कि पेड़ों पर ईश्वर का वास होता है। वृक्ष बिना किसी भेद-भाव के सभी को आक्सीजन प्रदान करते हंै। उन्हांेने पीपल के वृक्ष के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि यह वृक्ष सदैव से पूजनीय रहा है, धार्मिक ग्रन्थों में भी पेड़-पौधों के महत्व का उल्लेख किया गया है। उन्हांेने आमजन को संदेश दिया कि ‘पेड़ लगाओं, पर्यावरण बचाओ’। वृक्ष भी एक तपस्वी है जो बिना बोले सब कुछ करता रहता है, हमें वृक्षों की भाषा व दर्द को समझाना चाहिए और वृक्षों की रक्षा करनी चाहिए जिससे हमें और हमारे आने वाली पीढ़ी को स्वच्छ वातावरण मिल सके। उन्हांेने कहा कि वन का क्षेत्रफल 76 प्रतिशत से घटकर 9 प्रतिशत रह गया है। हमारे मा. मुख्य मंत्री योगी आदित्य नाथ जी ने प्रदेश में वन क्षेत्रफल 09 प्रतिशत से बढ़ाकर 15 प्रतिशत करने का लक्ष्य रखा है। लक्ष्य को पुरा करने में जन सहभागिता आवश्यक है सभी लोग अधिक से अधिक से अधिक वृक्षारोपण कर उसकी सुरक्षा करें। 

उन्हांेने बताया कि इस वर्ष जनपद में 11.68 लाख पौधे लगाये जायेंगे। पेड़ लगाने से ज्यादा महत्व पेड़ बचाने की है। जो भी वृक्ष लगाये जाय उसकी सुरक्षा की भी पुख्ता प्रबन्ध किये जायं। वृक्षारोपण मात्र आर्थिक स्वार्थ के लिए न किये जाये बल्कि ऐसे प्रजातियों के वृक्ष भी लगाये जायं जो आने वाली पीढ़ी के लिए लाभदायक हों। उन्हांेंने आमजन का आहवान किया कि बच्चे के जन्म दिवस के अवसर पर कम से कम एक वृक्ष अवश्य लगायें और उसकी भी बच्चे की तरह देखभाल करें। उन्होंने बताया कि पार्टी स्तर से भी वृक्ष लगायें जायेंगे। 

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए जिलाधिकारी अजय दीप सिंह ने बताया कि प्रदेश के मा. मुख्य मंत्रीयोगी आदित्य नाथ जी ने 01 जुलाई को कुकरैल लखनऊ में वृक्षारोपण कर वन महोत्सव का शुभारम्भ किया है। उन्हांेने निर्देश दिया है कि 31 जुलाई तक प्रतिदिन वृहद स्तर पर वृक्षारोपण कार्यक्रम आयोजित कर अधिक से अधिक पौधे लगायें जायं। उन्हंोंने बताया कि इस वर्ष जनपद में 1172 हे. क्षेत्रफल में 11.68 लाख पौधे रोपे जायेंगे जिसमें वन विभाग द्वारा 856 हे. में 8.20 लाख पौधांे तथा अन्य विभागों द्वारा 316 हे. में 3.48 लाख पौधों का वृक्षारोपण किया जायेगा। उन्हांेने प्रभागीय वनाधिकारी को निर्देश दिया कि पौधरोपण के लिए गड्ढों की खुदाई, सुरक्षा आदि के सम्बन्ध में प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित कर अन्य विभागों को प्रशिक्षित करें ताकि अन्य विभाग भी मानक के अनुसार सही ढ़ंग से वृक्षारोपण करा सकें। उन्हांेने कहा कि लगातार सीमित हो रहे वन क्षेत्र की पूर्ति के लिए वृक्षारोपण जन आन्दोलन के रूप मंे मनाया जाना चाहिए, विशेषकर वृक्षारोपण अभियान में नई पीढ़ी को भी जोडा़ जाय ताकि वे भी वृक्षों के महत्व को समझें। 

विधायक महसी सुरेश्वर सिंह ने कहा कि मा. मुख्य मंत्री योगी आदित्य नाथ जी द्वारा प्रदेश में वन क्षेत्र को 09 प्रतिशत से बढ़ाकर 15 प्रतिशत करने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने पेड़ों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वृक्षारोपण अभियान के दौरान अधिक से अधिक पौध लगायें विशेषकर आक्सीजन देने वाले वृक्षों को लगाया जाय। उन्हांेने कहा कि सरकारी कार्यक्रम के साथ-साथ जन सहभागिता आवश्यक है, जब स्वस्थ्य समाज रहेगा तभी देश-प्रदेश प्रगति करेगा। विधायक पयागपुर सुभाष त्रिपाठी ने भी वृक्षों के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि हम लोगों का जीवन भी पेड़-पौधों पर निर्भर है, अन्धा धुन्ध वनों के कटान से वातावरण में असंतुलन पैदा हुआ है। इससे मानव जीवन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा रहा है। इसके लिए आवश्यक है कि हम अधिक से अधिक वृक्ष लगाकर वन सम्पदा को बढायें ताकि आक्सीजन का संतुलन बना रहे। उन्हांेने जनमानस से अपील की कि अपने घरों के आस-पास, खेत के मेडों व खाली भूमि पर वृक्ष लगायें और लगाये गये वृक्षों की सुरक्षा करें जिससे वातावरण हरा-भरा रहे। 

विधायक बलहा अक्षयबर लाल गौड़ ने भी वृक्षों के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि पर्यावरण को संतुलित रखने के लिए अधिक से अधिक वृक्ष लगायें जायं। उन्होंने कहा कि हम सबका नैतिक कर्तव्य है कि अपने आने वाली पीढी, मानवता व विश्व को बचायें। सरकार के वृक्षारोपण अभियान में सहभाग कर अभियान को सफल बनायें। प्रभागीय वनाधिकारी कतर्नियाघाट ने भी पेडों के महत्व पर प्रकाश डाला। प्रभागीय वनाधिकारी बहराइच आरपी सिंह ने पेडों के महत्व पर प्रकाश डालते हुए बताया कि वन महोत्सव के दौरान पीपल, बरगद, पाकड़, आम, नीम, जामुन, छायादार वृक्ष मौलश्री आदि प्रजाति के पौधे रोपित किये जायेंगे। उन्होंने महोत्सव में आये हुए अतिथियों का अभार तथा मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार ने धन्यबाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम के अन्त मंे वन विभाग द्वारा मुख्य अतिथि मुकुट बिहारी वर्मा, विधायक बलहा अक्षबर लाल गौड़, महसी सुरेश्वर सिंह, सुभाष त्रिपाठी, जिलाधिकारी अजय दीप सिंह व अन्य अतिथियों को रूद्राक्ष का पौध स्मृति चिन्ह के रूप में़ भेंट किया गया। कार्यक्रम का संचालन मनमोहन मिश्र ने किया। वन महोत्सव के दौरान बनारस हिन्दु विश्व विद्यालय तथा लखनऊ के कलाकारों द्वारा गीत संगीत का रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। 

इस अवसर पर जिला स्तरीय अधिकारी, क्षेत्रीय वनाधिकारीगण, अध्यक्ष नगर पंचायत रिसिया राजेश निगम, पूर्व प्रमुख घनश्याम सिंह, गौरव वर्मा, पूर्व विधायक अरूणवीर सिंह के प्रतिनिधि कर्मवीर सिंह, संभ्रान्त नागरिक व भारी संख्या में आमजन मौजूद रहे।

       
रिपोर्ट – राकेश मौर्या बहराइच

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY