आरएसएस (RSS) से सहायता प्राप्त मुस्लिम छात्र ने असम बोर्ड की 10वीं की परीक्षा में किया टॉप |

0
12392

sarfaraj

असम 10वीं की बोर्ड परीक्षा में टॉप करने वाले सरफराज हुसैन ने 600 में से 590 अंक हासिल किये हैं | आसाम में पहली बार बीजेपी की जीत के एक हफ्ते बाद ही सरफराज हुसैन ने आसाम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS)को उत्सव का एक और मौका दिया है |
16 वर्ष के सरफराज पहले ऐसे मुस्लिम छात्र हैं जिन्होंने आरएसएस की एक शाखा विद्या भारती द्वारा संचालित स्कूल में पढ़कर प्रदेश में टॉप किया है |

सरफराज असम के शंकरदेव शिशु निकेतन के छात्र हैं | सरफराज के अलावां शंकरदेव शिशु निकेतन में 24 मुस्लिम छात्र और पढ़ते हैं जिनमें से ज्यादातर ने भगवद गीता कंठस्थ कर पुरस्कार प्राप्त किया है |

विद्यालय के प्रधानाचार्य अक्षय कलिता ने कहा “इन लोगों ने कभी भी कोई शिकायत नहीं की कि हम उन्हें क्या पढ़ा रहे हैं क्योंकि हमारा पहला लक्ष्य छात्र को शैक्षणिक योग्यता देना है, इसके अलावां उसे भारतीय संस्कृति और मूल्यों से अवगत कराना है |
हम उन्हें कभी भी भिन्नता का एहसास नहीं होने देते है, नियम के अनुसार वे भी सभी छात्रों के साथ बैठकर भोजन मन्त्र के पश्चात् दोपहर का भोजन गृहण करते हैं |

सरफराज के पिता अजमल हुसैन नव बताया कि वह एक छोटे से रेस्टोरेंट में वेटर का काम करते हैं और अपनी छोटी सी कमाई में वह सरफराज की पढाई का बोझ नहीं उठा सकते हैं लेकिन आरएसएस का यह स्कूल सरफराज को मुफ्त शिक्षा मुहैया कराता है |
उन्होंने अपने बेटे की इस सफलता का श्रेय उसकी कड़ी मेहनत, अध्यापकों के सहयोग और विद्या की देवी माँ सरस्वती को दिया है | सरफराज स्कूल की सरस्वती पूजा उत्सव का प्रमुख है |

10वीं के टॉपर सरफराज ने कहा कि आशा करता हूँ कि भविष्य में मै और बड़ी उपलब्धियां हासिल करके अपने गुरुओं की आकांक्षाओं को पूरा कर सकूँ |

असम के वर्तमान शिक्षामंत्री शर्मा ने स्कूल की उन्नति के लिए रूपये 10 लाख और सरफराज को उच्च शिक्षा के रूपये 5 लाख फिक्स डिपाजिट में देना का वादा किया है |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY