बिजली कटौती से ग्रामीण परेशान, प्रशाशन नही दे रहा ध्यान

0
155
प्रतीकात्मक

प्रतापगढ़ (ब्यूरो)- जनपद प्रतापगढ़ के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यों-ज्यों गर्मी का असर पड़ रहा है वैसे वैसे बिजली कटौती जोरों पर है| कुछ ग्रामीण इलाकों में तो बिजली का दर्शन इस रूप में ग्रामीण कर रहे हैं|

उस बिजली से ना तो आप मोबाइल चार्ज कर सकते हैं ना ही आप पंखा चला सकते हैं केवल नाम मात्र की विद्युत व्यवस्था प्रतापगढ़ जनपद के ग्रामीण इलाकों में चल रही है| ग्रामीण जनता जनार्दन अपनी फरियाद सुनाए तो किसे सुनाएं, बिजली विभाग के अधिकारी कर्मचारी अपना फोन उठाना मुनासिब नहीं समझते, तो गांव की जनता अपनी शिकायत किससे करें|

कहने को तो तहसील दिवस होता है, थाना दिवस होता है, हर पार्टी के नेता गांव से लेकर जिला स्तर तक छाए हुए हैं परंतु गांव की जनता की सुनने वाला कोई नहीं है| अगर सुनता भी है तो केवल अपने मतलब के समय में चाहे लोकसभा का चुनाव हो चाहे विधानसभा का चुनाव हो चाहे अन्य चुनाव हो उस समय गांव के जनता जनार्दन के बीच यही नेता अपना अपना चोला तथा पार्टी बदल कर जनता को छलने का काम करते हैं |

जब उनका सांसद विधायक बन गया तो गांव की जनता की फरियाद सुनने वाला कोई नहीं दिखता है दिखता है तो केवल चाटुकार इसलिए नेता के पास केवल चाटुकारों की ही हाजरी लगती है| गांव की जनता पानी की समस्या राशन कार्ड की समस्या बिजली की समस्या जो वर्तमान समय में प्रमुख मुद्दा है |

राशन की दुकानों पर गरीबों को राशन मिल रहा है कि नहीं मिल रहा है गांव की जनता जनार्दन को सरकार द्वारा दी जाने वाली चिकित्सा सुविधा गांव की जनता को मिल रही है कि नहीं मिल रही है इसकी फरियाद कौन सुने जहां एक तरफ देश में मोदी की सरकार प्रदेश में श्री  योगी आदित्यनाथ जी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं उनकी सरकार चल रही है |

गांव की गरीब जनता को इन दोनों सरकारों से बहुत बड़ी मदद की उम्मीद है परंतु इस उम्मीद को पूरी करने के लिए बीच में बैठे हैं, सरकार के नौकरशाह क्या वास्तव में जो मोदी जी और योगी जी की सोच है क्या भारतीय जनता पार्टी के जुझारू कार्यकर्ता गांव की समस्या को सरकार तक पहुंचाएंगे या नहीं पहुंचाएंगे यह बहुत बड़ा सवाल है|

क्योंकि अब कार्यकर्ता केवल सांसद विधायक मंत्री अधिकारियों तक ही देखा जा रहा है शासन द्वारा चलाई जा रही योजनाओं की देखरेख सरकारी तंत्र के अलावा यदि गांव अस्तर के बूथ पदाधिकारी को यह जिम्मेदारी जिला कमेटी द्वारा सौंप दी जाएगी|

सरकार द्वारा संचालित सभी परियोजनाओं का लाभ गांव की गरीब जनता जनार्दन को हर हाल में मुहैया हो यह भी बहुत बड़ा सवाल है यह नौकरशाह तो केवल अपनी पीठ थपथपाने के लिए फरजी बोल बोलते देखे जाते हैं गांव गलियारों तक पहुंचना मुनासिब नहीं समझते अगर हकीकत जमीनी स्तर पर जाकर जांच की जाए तो मामला और कुछ सामने होगा|

वही जनपद प्रतापगढ़ के ग्रामीणों का दुख दर्द कौन सुनेगा यह भी अब सोचने के लिए गांव की जनता मजबूर हो रही है| क्योंकि शासन द्वारा ब्लॉक स्तर पर थाना समाधान दिवस चलाया जा रहा है| परंतु लोगों का आरोप है कि उस दिवस में ज्यादातर पुलिस विभाग के अधिकारी राजस्व विभाग के अधिकारी को छोड़कर किसी भी विभाग के अधिकारी का दर्शन नहीं होता है यह आरोप गांव के ग्रामीणों का है|

तहसील दिवस में जनपद स्तर पर होता है वहां तक पहुंचने की हिम्मत गांव के गरीब जनता जनार्दन की नहीं होती है आज की सबसे बड़ी समस्या नहरों में पानी नहीं आना गांव की जनता को बिजली नहीं मिलना स्वास्थ्य सेवाएं तथा सरकारी दवाएं ना उपलब्ध होना जनता की फरियाद स्थानीय स्तर के कार्यालयों के द्वारा सुनवाई नहीं होना या तो आम बात हो गई है|

वही भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता श्री भूपेंद्र बहादुर सिंह राम अभिलाष शर्मा सुधा कार शंभू नाथ मिश्रा बाबू पांडे बिन्नू पंडित गुलाब दिलीप आदि सैकड़ों लोगों ने सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं को गांव की गरीब जनता जनार्दन को निष्पक्षता से मुहैया कराई जाए, यह मांग है जनपद प्रतापगढ़ वासियों की|

रिपोर्ट-अवनीश कुमार मिश्रा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here