कलीमुरादपुर में ग्रामीण स्वास्थ्य एवं स्वच्छता पोषण मेला सम्पन्न

0
53

प्रतापगढ़(ब्यूरो)- कलीमुरादपुर को ओ0डी0एफ0 घोषित किये जाने का ग्रामवासियों से मुख्य विकास अधिकारी ने किया अनुरोध, 210 बच्चों का लिया गया वजन, 66 कुपोषित और 09 अतिकुपोषित बच्चे किये गये चिन्हित, चिकित्सकीय टीम द्वारा 70 गर्भवती-धात्री माताओ और 195 बच्चो का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया|

मुख्य विकास अधिकारी द्वारा राज्य पोषण मिशन योजना के तहत विकास खण्ड गौरा के गोद लिये कलीमुरादपुर गांव में आज ग्रामीण स्वास्थ्य एवं स्वच्छता पोषण मेला का आयोजन किया गया, जिसका शुभारम्भ मुख्य विकास अधिकारी श्री राजकमल यादव ने किया। इस अवसर पर अपने उद्बोधन में मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि स्वास्थ्य एवं स्वच्छता सुखद एवं आनन्दमयी जीवन के लिये आवश्यक है, इसीलिये मा. प्रधानमंत्री जी ने स्वच्छ भारत मिशन योजना के तहत पूरे भारत को स्वच्छ व स्वास्थ्य से परिपूर्ण करने का अहम फैसला लिया है। प्रदेश सरकार के निर्देशन में ग्रामीण स्वास्थ्य एवं स्वच्छता पोषण मेला का आयोजन किया जा रहा है जिस कड़ी में आज विकास खण्ड गौरा के कलीमुरादपुर गांव में स्वच्छता पोषण मेला का आयोजन किया गया।

उन्होने इस अवसर पर अपने उद्बोधन में कहा कि इस गांव में कुल 594 परिवार आवासित है और 250 शौचालयों का निर्माण हुआ है। शेष परिवारों के पास शौचालय हो इसकी व्यवस्था की जा रही है और ग्रामवासियों से अनुरोध है कि वे शासन की इस महत्वाकांक्षी योजना में अपना प्रतिभाग सुनिश्चित करते हुये कलीमुरादपुर को खुले में शौच जाने से मुक्त यानि ओ0डी0एफ0 गांव घोषित शीघ्र कराये।

आज के इस स्वास्थ्य एवं स्वच्छता पोषण मेला में बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग द्वारा 0 से 5 वर्ष के कुल 210 बच्चों का वजन लिया गया जिनमें से 66 बच्चे कुपोषित और 09 बच्चे अतिकुपोषित चिन्हित किये गये। मेले में स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा 70 गर्भवती-धात्री माताओ का और 7 माह से 3 वर्ष के कुल 195 बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। कुल 41 गर्भवती माताओ के परीक्षण में एक गर्भवती माता ऐसी मिली जो हाई रिस्क प्रिगनेन्सी की कटेगरी में आयी जिन्हें डाक्टरों ने सलाह दिया कि इन्हें जिला चिकित्सालय को सन्दर्भित किया जाये।

जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री सन्तोष कुमार श्रीवास्तव ने मेले में जानकारी देते हुये बताया कि पूर्व में इस गांव में 16 कुपोषित बच्चे पाये गये थे जिनमें से 15 बच्चों के स्वास्थ्य में पोषाहार से बदलाव आया और वे कुपोषित से सामान्य कटेगरी में आये। दो बच्चो को पोषण पुर्नवास केन्द्र भेजा गया था। अति कुपोषित बच्चो को पोषण पुर्नवास केन्द्र भेजने की अपील करते हुये श्री श्रीवास्तव ने कहा कि पुर्नवास केन्द्र में बच्चो के स्वास्थ्य की विशेष देखभाल होती है और प्रत्येक ऐसी माँ को जो बच्चो के साथ आती है उन्हें प्रतिदिन 50 रू0 की सहायता भी प्रदान की जाती है। जिला पंचायत राज अधिकारी श्री कुंवर सिंह यादव ने अपने विभागीय योजनाओं पर मेला में विस्तार से प्रकाश डाला और ग्रामवासियों से अनुरोध किया कि वे अपने अगल-बगल के वातावरण को स्वच्छ रखने हेतु खुले में शौच न जाये और शौचालयों का प्रयोग करे।

मेले में पशु चिकित्सा विभाग, स्वास्थ्य विभाग, बाल विकास एवं पुष्टाहार, पंचायती राज विभाग सहित अन्य विभागों की ओर से स्टाल लगाये गये थे जिसमें विभागीय योजनाओं के प्रचार प्रसार हेतु पम्पलेट्स व अन्य प्रचार साहित्य का वितरण किया गया। खण्ड विकास अधिकारी गौरा में मुख्य विकास अधिकारी सहित मेले में प्रतिभाग करने वाले अन्य जिला स्तरीय अधिकारियों और कर्मचारियांें का विकास खण्ड की ओर से स्वागत किया।

रिपोर्ट- अवनीश कुमार मिश्रा 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY